रक्तदान कर सरोज इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी एंड मैनेजमेंट लखनऊ के विद्यार्थी बने महादानी






सरोज इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी एंड मैनेजमेंट कॉलेज लखनऊ  स्टूडेंट वेलफेयर के तत्वाधान में  रक्तदान शिविर के साथ साथ हेल्थ चेकअप का आयोजनसरोज इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी एंड मैनेजमेंट लखनऊ में आज 27 अप्रैल 2024 को  स्टूडेंट वेलफेयर के बैनर तले कॉलेज परिसर में रक्तदान और हेल्थ चेकअप शिविर का आयोजन किया गया। रक्तदान संयुक्त शिविर का धन्वंतरी ब्लड डोनेशन चैरिटेबल के साथ रहा, इस आयोजन में मुख्य रूप से सरोज इंस्टीट्यूट आफ टेक्नोलॉजी मैनेजमेंट कॉलेज के प्रधानाचार्य रोहित सिंह की मुख्य भूमिका रही।रोहित सिंह ने कहा की इस आयोजन को धन्वंतरी ब्लड डोनेशन चैरिटेबल एवं सरोज इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी मैनेजमेंट कॉलेज के स्टूडेंट वेलफेयर के तत्वाधान में संयुक्त रूप से किया गया। छात्र और छात्राओं में रक्तदान के साथ स्वस्थ चेकअप को लेकर काफी उत्साह दिखाई दिया। सिंह ने बताया कि स्वस्थ शरीर से ही बच्चों में स्वस्थ मस्तिष्क का निर्माण होता है विद्यार्थियों का स्वास्थ्य अच्छा रहेगा तू हर काम अच्छा रहेगा। स्वस्थ युवा या व्यक्ति जो कि 18 से 60 साल का है साल में चार बार रक्तदान कर सकता है और इसको करने से किसी भी प्रकार की कमजोरी नहीं आती। सरोज एजुकेशनल ग्रुप के चेयरमैन श्री सुनील सिंह जी ने इस अवसर पर कहा की   मानवता के हित में ऐसे कार्य करने वाली संस्थाओं के कारण ही आज देश व राष्ट्र का विकास हो रहा है।आज कई कारणों से इन दिनों रक्तदान जरूरी होता जा रहा है, लेकिन सबसे अच्छी बात यह है कि रक्त देने से जरूरत मंद लोगों को जीवन दान मिलता है।रक्तदान करने से रक्तदाता को स्वास्थ्य लाभ भी प्राप्त होते हैं। रक्तदान करने से किसी के जीवन को करीब से छूने का सुंदर अनुभव प्राप्त होता है। इस अवसर पर संस्था के छात्र-छात्राओं के साथ शैक्षणिक संस्था के शिक्षक मौजूद रहे।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
संसद का शीतकालीन सत्र नहीं होगा, सरकार ने जनवरी में बजट सत्र बुलाने का सुझाव दिया
चित्र
मोदी खुद शहंशाह, मेरे भाई को शहजादा बोलते हैं: गुजरात में प्रियंका गांधी ने प्रधानमंत्री पर किया पलटवार
चित्र