अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव

 
अखिल भारतीय  कायस्थ महासभा के मुख्य संरक्षक  ए सी भटनागर ने आपातकाल बैठक बुलाकर भारतवर्ष की समस्त इकाइयों को भंग कर दिया ए सी भटनागर ने बताया कि विगत कई वर्षों से चौधरी जितेंद्र नाथ सिंह असंवैधानिक  रूप से तीन बार से राष्ट्रीय अध्यक्ष पद पर विराजमान होकर स्वयंभू बनकर अखिल भारतीय कायस्थ महासभा का दुरुपयोग कर रहे अखिल भारतीय कायस्थ महासभा का निर्माण समाज के उत्थान के लिए किया गया था परंतु चौधरी जितेंद्र नाथ सिंह ने इसका गलत फायदा उठाते हुए परिवारवाद और अपने मित्र बंधुओ आदि -आदि को ही फायदा पहुंचाने का  कार्य किया और बिना मुख्य संरक्षक और अन्य सदस्यों को आमंत्रित किए बिना ही स्वयं ही  असंवैधानिक रूप से राष्ट्रीय अध्यक्ष पद पर विराजमान हो गए और यही नहीं इन्होंने संविधान के साथ सभी छेड़छाड़ करने का प्रयास किया जिसमें इनका निरंतर साथ दे रहे अरुण श्रीवास्तव जिनको राष्ट्रीय महासचिव इन्होंने नियुक्त किया इन दोनों ने ही मिलकर संस्था का दुरुपयोग करते हुए समाज को काफी क्षति पहुंचाई पूर्व में देखने को मिला है समाज को सामाजिक स्तर से राजनीतिक स्तर से बहुत ही कमजोर किया गया है इसलिए आज दिनांक 7 मई  2024 को संपूर्ण भारतवर्ष की समस्त कमेटियों को भंग किया जाता है और डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव पूर्व प्रधान आयुक्त को अखिल भारतीय कायस्थ महासभा का राष्ट्रीय अध्यक्ष नियुक्त किया जाता है साथ ही अशोक श्रीवास्तव जो की पूर्व में भी राष्ट्रीय महासचिव की जिम्मेदारी निभा चुके हैं उनको राष्ट्रीय महासचिव एवं श्री चित्रगुप्त पीठ के पीठाधीश्वर  आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी सच्चिदानंद जी को संरक्षक एवं अरविंद श्रीवास्तव को राष्ट्रीय  कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त किया जाता है शीघ्र ही राष्ट्रीय ,प्रांतीय, जिला एवं विधानसभा स्तर तक की समस्त कार्यकारिणी 30 दिन के अंदर गठित करने का आदेश दिया जाता है इस अवसर पर अनिल सक्सेना महेंद्र सक्सेना धीरज श्रीवास्तव अतुल सक्सेना अमित श्रीवास्तव सबीना श्रीवास्तव विपुल सक्सेना अशोक श्रीवास्तव अरविंद श्रीवास्तव डीके सक्सेना अविरल सिन्हा वीपी श्रीवास्तव आदि समाज के प्रबुद्ध जन उपस्थित रहे।
 
टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
ईद उल अजहा की पुरखुलूस मुबारकबाद -अजय गुप्ता महासचिव केमिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन
चित्र