153 सांसदों की संपत्ति में 142 प्रतिशत का उछाल, शत्रुघ्न सिन्हा हैं टॉप पर


नई दिल्ली। वर्ष 2014 में फिर से निर्वाचित हुए 153 सांसदों की औसत संपत्ति में 142 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है, और यह प्रति सांसद औसतन 13.32 करोड़ रुपए रही है। इस सूची में शत्रुघ्न सिन्हा, पिनाकी मिश्रा और सुप्रिया सुले शीर्ष तीन स्थानों पर हैं। इलेक्शन वाच और एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक रिफॉम्र्स (एडीआर) के अनुसार, पांच सालों में (2009 से 2014) 153 सांसदों की औसत संपत्ति वृद्धि 7.81 करोड़ रुपए रही।


स्वतंत्र सार्वजनिक शोध समूहों ने 2014 में फिर से निर्वाचित हुए 153 सांसदों द्वारा सौंपे गए वित्तीय विवरणों की तुलना की है। अध्ययन में पाया गया है कि इन सांसदों की वर्ष 2009 में औसत संपत्ति 5.50 करोड़ रुपए थी, जो दोगुनी से ज्यादा बढक़र औसतन 13.32 करोड़ रुपए हो गई। सांसदों में सर्वाधिक संपत्ति वृद्धि भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा की हुई।


वर्ष 2009 में उनकी संपत्ति लगभग 15 करोड़ रुपए थी, जो 2014 में बढक़र 131 करोड़ रुपए हो गई। बीजू जनता दल (बीजद) के पिनाकी मिश्रा की संपत्ति 107 करोड़ रुपए बढक़र 137 करोड़ रुपए हो गई। संपत्ति वृद्धि के मामले में तीसरा स्थान राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) की सुप्रिया सुले का है।
2009 में उनकी संपत्ति 51 करोड़ रुपए थी, जो 2014 में बढक़र 113 करोड़ रुपए हो गई।


इस मामले में शीर्ष 10 सांसदों में शिरोमणि अकाली दल की हरसिमरत कौर बादल छठे स्थान पर और भाजपा के वरुण गांधी 10वें स्थान पर हैं। वरुण ने 2009 में अपनी संपत्ति चार करोड़ रुपए बताई थी, जो 2014 में बढक़र 35 करोड़ रुपए हो गई। पार्टी के स्तर पर भाजपा के 72 सांसदों की संपत्ति में 7.54 करोड़ रुपए का औसत उछाल हुआ, जबकि कांग्रेस के 28 सांसदों की संपत्ति में औसतन 6.35 करोड़ रुपए का उछाल दर्ज किया गया। शीर्ष नेताओं में कांग्रेस सांसद राहुल गांधी की संपत्ति 2009 के दो करोड़ रुपए से बढक़र 2014 में सात करोड़ रुपए हो गए।


टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
रूस में दो नए काउंसलेट खोलने का ऐलान, मॉस्को में बोले मोदी- भारत का विकास देख दुनिया भी हैरान
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र