25 लाख चौकीदारों को PM का संबोधन, अपने बच्चों को देश का PM भी बनाना है

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने होली के मौके पर बुधवार शाम 5 बजे ऑडियो ब्रिज के जरिए देशभर में 25 लाख चौकीदारों को संबोधित किया। पीएम मोदी ने कहा कि आज हर जगह चौकीदारों की ही चर्चा है, टीवी या ट्विटर, देश, विदेश, गांव, शहर हर जगह चौकीदार शब्द की ही गूंज है। लेकिन कुछ लोगों ने अपने निजी स्वार्थों के चलते चौकीदार पर ही सवाल खड़े कर दिये हैं। चौकीदारों से बात करते हुए मोदी ने विपक्ष पर जमकर हमला किया।


आपकी मुस्तैदी ही दूसरों की खुशियों की गारंटी बन जाती 
होली का त्यौहार अनेकों रंग लेकर आता है। इस रंग को और खूबसूरत बनाने में बड़ी भूमिका चौकीदार साथियों की भी होती है। आपकी मुस्तैदी ही दूसरों की खुशियों की गारंटी बन जाती है। आज चौकीदारी देशभक्ति का पर्याय बन गया है। कामदारों के खिलाफ नफरत फैलाना नामदारों की आदत होती है।


चौकीदारों की तपस्या के सामने सवालिया निशान
आज हर हिंदुस्तानी कह रहा है 'मैं भी चौकीदार'। मैं आप सभी चौकीदारों से माफी मांगता हूं क्योंकि कुछ लोगों ने पिछले कुछ महीनों में निजी स्वार्थ के लिए बिना कुछ सोचे-समझे गाली-गलौच करना शुरू कर दिया और चौकीदार को चोर कह दिया और चौकीदारों की तपस्या के सामने सवालिया निशान खड़ा कर दिया।


अापको अपने बच्चों को डॉक्टर, इंजीनियर, सेना का जवान और देश का पीएम बनाना है
चौकीदार शब्द को दुनिया की ज्यादातर भाषाओं में समझा जाता है। इसका मतलब है कि इसे हर जगह स्वीकार किया जा चुका है। हमें बहुत आगे बढ़ना है। अपने बच्चों को बहुत बड़ा बनाना है, उन्हें डॉक्टर, इंजीनियर, सेना का जवान और देश का प्रधानमंत्री भी बनाना है, लेकिन हम सबको अपने बच्चों के भीतर चौकीदार के संस्कार को बनाए रखना बेहद जरूरी है।


हमारी सेना पर गर्व करें
हम सभी देशवासियों को हमारी सेना पर गर्व होना चाहिए। जान की बाजी लगाकर उन्होंने कितना बड़ा पराक्रम किया। देश के वीर शहीदों का उन्होंने किस प्रकार चुन-चुन कर हिसाब चुकता किया। आज हर भारतीय को गर्व है, लेकिन विपक्षी पार्टियों के रवैये को देखकर हर कोई हैरान और दुखी है।


विपक्ष में मेरा नाम लेकर गाली देने की हिम्मत नहीं। मेरा नाम लेकर गाली देते तो दुख ना होता। मैं विपक्ष की इन गालियों को गहना बना लूंगा।


टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
यूपी सरकार से तंग आ चुके हैं हम, वहां जंगलराज जैसी स्थितिः सुप्रीम कोर्ट