बीजेपी में कैसे कटे आडवाणी सहित कई बुज़ुर्ग नेताओं के टिकट? जानिए अंदरखाने की कहानी

भारतीय जनता पार्टी(BJP) ने इस बार पार्टी के लौहपुरुष कहे जाने वाले लालकृष्ण आडवाणी सहित कई बुजुर्ग नेताओं को चुनाव मैदान में नहीं उतारा है. 75 वर्ष पार कर चुके ऐसे नेताओं का टिकट काटने के लिए बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व ने कैसे की पहल, जानिए अंदरखाने की बात.ई दिल्ली: 


भारतीय जनता पार्टी(BJP) ने इस बार पार्टी के लौहपुरुष कहे जाने वाले लालकृष्ण आडवाणी सहित कई बुजुर्ग नेताओं को चुनाव मैदान में नहीं उतारा है. 75 वर्ष पार कर चुके नेताओं का टिकट काटने के लिए बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व ने खुद पहल की. हालांकि इससे पहले हुई पार्टी की बैठक के बाद मीडिया में यह खबर आई थी कि बुजुर्ग नेताओं को पार्टी भले लड़ाएगी, मगर उन्हें सरकार में किसी तरह की जिम्मेदारी नहीं दी जाएगी. मगर पार्टी ने अब बुजुर्ग नेताओं को मैदान में उतारने की जगह उन्हें आराम देने का फैसला किया. बीजेपी सूत्रों का कहना है कि पार्टी के ऐसे बुजुर्ग नेताओं को चुनाव न लड़ने के लिए राजी करने की जिम्मेदारी संगठन महासचिव रामलाल को सौंपी गई. कहा गया कि वह पार्टी के संबंधित वरिष्ठ नेताओं से संपर्क कर अनुरोध करें कि वह चुनाव लड़ने की जगह आराम करें. कहीं सूची में नाम न होने पर जनता और पार्टी समर्थकों के बीच वरिष्ठों  का अनादर करने का गलत संदेश न चला जाए, इसके लिए इन बुजुर्ग नेताओं से पहले से ही बयान जारी करवाया जाए कि वे चुनाव नहीं लड़ेंगे.


टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
यूपी सरकार से तंग आ चुके हैं हम, वहां जंगलराज जैसी स्थितिः सुप्रीम कोर्ट
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र