गोली की जगह निकलेगा रंगों की बौछार


हिंदी दैनिक आज का मतदाता लखनऊ। होली आते ही बाज़ारो में जगह जगह पिचकारियों की दुकाने सजने लगती है इस बार भी बाज़ारो पर कब्जा कर रहे चायना से मुकाबले के लिए भारत निर्मित पिचकारिया अपनी दावेदारी के लिए तैयार । देश मे निर्मित पिचकारियों को लोग पसंद भी कर रहे है जैसे पुलवामा हमले व भारत की एयर स्ट्राइक के बाद देश भक्ति की भावना बच्चों में भी जागृत हो गई है जिसका असर बच्चे अपने माता पिता से जिद कर वही पिचकारियां खरीदने को कह रहे है । इस बार अधिकतर पिचकारियां फौजी की बन्दूको की तरह है जिसमे टैंक स्कूल बैग की तरह पीठ पर लाद कर रंगों की बौछार करेंगे | स्वदेशी पिचकारियां किसी भी मामले में चायनीज पिचकारियों से कम नही है ।


 



हिंदी दैनिक आज का मतदाता  के संवाददाता जब थोक दुकानदारों से बात की तो उन्होंने बड़े ही गर्व से कहा कि इस बार हम लोगो स्वदेशी पिचकारियां की बाज़ारो में बेचने के लिए रखी है जिसको लोग काफी पसंद कर रहे है दुकाने बाज़ारो में सजने लगी है हम लोगो का पूरा माल दिल्ली से आ रहा है छोटे बच्चों के लिए खिलौने के आकार की बनी पिचकारियां 30 रुपए से लेकर 100 रुपए तक कि है इसके आगे की भी रेंज है जो लगभग 2000 रुपये तक जाती है सैनिको की बैग की तरह कंधे पर लटकाकर चलने वाली स्टेनगन वाली प्रेशर पिचकारी की रेंज 100 रुपए से लेकर 1800 रुपये तक कि है वही बच्चों में आकर्षित व लोक प्रिय मिक्की माउस वाली पिचकारी 700 रुपए की रेंज में उपलब्ध है ।


टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
यूपी सरकार से तंग आ चुके हैं हम, वहां जंगलराज जैसी स्थितिः सुप्रीम कोर्ट