अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण की बाधाएं जल्द दूर होंगी : विश्व हिंदू परिषद

नई दिल्ली। श्री राम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर के निर्माण में आने वाली बाधाओं को दूर करने हेतु विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) ने शनिवार को देश भर में 'श्रीराम जय राम जय जय राम' नामक विजय महामंत्र का जाप आयोजित किया।






दक्षिणी दिल्ली के रामकृष्ण पुरम स्थित विहिप मुख्यालय में इस अवसर पर मंत्र जाप में भाग लेते हुए विहिप कार्याध्यक्ष एडवोकेट आलोक कुमार ने कहा कि पूज्य संतों के आदेशानुसार आयोजित इस देशव्यापी जनजागरण कार्यक्रम से जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण में आने वाली सभी विघ्न बाधाएं अवश्य दूर होंगी।


उन्होंने कहा कि निर्माण का रास्ता अदालत से निकले या सरकार या संसद से भगवान श्री राम के मंदिर की भव्यता के दर्शन हेतु सम्पूर्ण देश आतुर है।


विक्रमी सम्वत 2076 की बधाई देते हुए उन्होंने कहा कि श्रीराम मंदिर के संकल्प के साथ आनंद संवत्सर की सर्व सिद्धि योग की अमृत बेला में विजय महामन्त्र की तेरह मालाओं का यह जप अनुष्ठान सम्पूर्ण हिन्दू समाज के लिए अनुकूल परिणाम लाएगा।


उन्होंने कहा, "आज विक्रमी सम्वत 2076 के सूर्योदय की पहली किरण से ही देशभर में विजय महामन्त्रों का जाप प्रारम्भ हो गया। पूज्य संतों व ज्योतिषविदों के अनुसार इस आनंद संवत्सर के प्रथम दिन के सूर्योदय से ही पुष्प नक्षत्र प्रारम्भ हो जाएगा, जो सर्व सिद्धि योग की अमृत बेला भी है। इस शुभ अवसर पर संकल्प के साथ की जाने वाली सभी सद्कामनाएं अवश्य पूरी होती हैं।"


उन्होंने कहा कि इसी कारण प्रयाग में आयोजित कुम्भ की धर्म संसद में पूज्य संतों ने सभी रामभक्तों को 'श्री राम जय राम जय जय राम' नामक 13 अक्षरीय विजय मंत्र देकर कहा था कि इसका 13 करोड़ वार जाप भगवान श्रीराम की जन्मभूमि पर मन्दिर की भव्यता में आने वाली समस्त विघ्न-बाधाओं को दूर करेगा।


एक फरवरी, 2019 को श्रीराम जन्मभूमि हेतु धर्म संसद में पारित एक प्रस्ताव में कहा गया था कि इस विजय महामंत्र का जाप प्रतिपदा यानी छह 





 



 






टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
रूस में दो नए काउंसलेट खोलने का ऐलान, मॉस्को में बोले मोदी- भारत का विकास देख दुनिया भी हैरान
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र