अटल के गढ़ में राजनाथ को कौन देगा टक्कर, चर्चा जीत के अंतर को लेकर

पहले आम चुनाव में नेहरू परिवार की बहन पं. विजयलक्ष्मी पंडित को जिताकर संसद में भेजने वाली लखनऊ संसदीय सीट की प्राथमिकता हमेशा बड़े और असरदार चेहरे रहे हैं। यहां न तो कभी पैसे की ताकत किसी को संसद में भेज पाई और न जातीय गुणाभाग से कोई नतीजा निकल पाया। यहां के मतदाताओं ने उन्हेें सांसद चुना जो संसद में लखनऊ की साख बढ़ा सकें। शहर की आबोहवा में बौद्धिक जागरूकता भरी है। शायद यही वजह रही कि आजादी के पहले कांग्रेस के तीन राष्ट्रीय अधिवेशन का स्थल और जवाहर लाल नेहरू व महात्मा गांधी की पहली मुलाकात का चश्मदीद गवाह बना लखनऊ लंबे समय तक कांग्रेसी धारा के साथ कदमताल करते हुए चला। पर, जब कांग्रेस ने उस जमाने के एक बड़े पूंजीपति शराब निर्माता वेदरत्न मोहन (वीआर मोहन) को लखनऊ से संसद भेजने का तानाबाना बुना तो लखनऊ ने उसे झटका देते हुए साफतौर पर बता दिया कि साख से कोई समझौता स्वीकार नहीं है। तब लखनऊ ने काॅफी हाउस में बैठने वाले कुछ साहित्यकारों, बुद्धिजीवियों और वरिष्ठ पत्रकारों की तरफ से मैदान में उतारे गए इलाहाबाद उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश व वरिष्ठ बैरिस्टर आनंद नारायण मुल्ला को जिताकर संसद भेज दिया।


 
वर्ष 1991 में इस सीट पर अटल की जीत के साथ शुरू हुआ भाजपा की जीत का सिलसिला अब तक कायम है। इस बार भी भाजपा की जीत पर किसी को संशय नहीं है। लोगों की नजर बस इस पर है कि पिछली बार 2.72 लाख वोट से जीते राजनाथ की जीत का अंतर अबकी कितना रहेगा... उनको टक्कर कौन देगा?


टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
रूस में दो नए काउंसलेट खोलने का ऐलान, मॉस्को में बोले मोदी- भारत का विकास देख दुनिया भी हैरान
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र