यूपी: बिजली संबधी सभी समस्याओं का हल निकालेगा यह एप, डाऊनलोड कर लें

लखनऊ: ऊर्जा मंत्री श्रीकान्त शर्मा ने विद्युत उपभोक्ताओं की समस्याओं के शीघ्र निराकरण के लिए ''ई-निवारण ऐप'' और टोल फ्री नं0 1912 को और प्रभावी बनाने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि इसके माध्यम से उपभोक्ताओं की समस्याओं को प्राथमिकता से हल किया जा रहा है। उपभोक्ता बिजली बिल के आॅनलाइन भुगतान व बिजली से संबंधित समस्याओं के समाधान के लिए ई-निवारण ऐप को ज्यादा से ज्यादा अपनाकर अपनी समस्याओं का निराकरण करवा सकते हैं। उन्होंने बताया कि उपभोक्ताओं की सुविधा के लिए उपलब्ध टोल फ्री नं0 1912 से अब तक 2148126 शिकायतों का त्वरित समाधान किया गया। उन्होंने बताया कि 1912 से 13 अप्रैल, 2017 से 26 जून 2019 तक पूरे प्रदेश के सभी डिस्कामों से बिल व मीटर में गड़बड़ी, न्यू कनेक्शन, लोड बढ़ाने व कम करने, विद्युत आपूर्ति बाधित होना, बिजली चोरी व ट्रांसफार्मर संबंधी 2182211 शिकायतें प्राप्त हुई, जिसमें से 98.44 प्रतिशत शिकायतों का समाधान अधिकारियों ने पूरी तत्परता से किया है। उन्होंने कहा कि उपभोक्ताओं की समस्या को प्राथमिकता देते हुए प्रदेश सरकार 'उपभोक्ता देवो भव' की नीति पर चल रही है।



श्री शर्मा ने कहा कि उपभोक्ता ''ई-निवारण ऐप'' के माध्यम से मीटर में खराबी, बिजली बिल की समस्या, पावर कट और ट्रांसफारमर्स में खराबी की शिकायत दर्ज करा सकते हैं। उन्होंने बताया कि इस ऐप के माध्यम से उपभोक्ताओं को स्वयं बिल बनाने और जमा करने की सुविधा भी उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार लोगों के जीवन स्तर को बेहतर बनाने तथा मूलभूत सुविधाओं को आमजन तक शीघ्र पहुँचाने के लिए प्रयासरत है। इसके लिए अधिक से अधिक आधुनिक तकनीक का भी सहारा लिया जा रहा है, ताकि सरकार कम समय में अधिक से अधिक लोगों को सुविधा दे सके।
ऊर्जा मंत्री ने कहा कि उपभोक्ता इस ऐप को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं। साथ ही बिजली की समस्याओं के समाधान के लिए सभी शहरी व ग्रामीण उपभोक्ता 24 घन्टे उपलब्ध प्रदेश व्यापी टोल फ्री नं0 1912 व संबंधित डिस्काम के टोल फ्री नं0 पर फोन कर सकते हैं।


उन्होंने बताया कि उपभोक्ता मध्यांचल विद्युत वितरण निगम के टोल फ्री नं0 1800-1800-440, पश्चिमांचल के 1800-180-3002, पूर्वांचल के 1800-180-5025, दक्षिणांचल के 1800-180-3023 तथा केस्को के टोल फ्री नं0 1800-180-1912 पर अपनी शिकायतें दर्ज करा सकते हैं, जिसका अधिकारियों द्वारा त्वरित समाधान किया जायेगा।


टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
यूपी सरकार से तंग आ चुके हैं हम, वहां जंगलराज जैसी स्थितिः सुप्रीम कोर्ट
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र