साक्षी के पति अजितेश की इलाहाबाद कोर्ट परिसर में पिटाई, विधायक राजेश मिश्रा भी कोर्ट पहुंचे

प्रयागराज। सोमवार सुबह सुरक्षा की मांग को लेकर विधायक बेटी साक्षी पति अजितेश के साथ इलाहाबाद हाईकोर्ट में सुनवाई के लिए पहुंचे। सुनवाई के बाद कोर्ट परिसर में सुरक्षा के बीच कुछ आसामाजिक तत्वों ने अजितेश की पिटाई कर दी। अजितेश ने कोर्ट नंबर दो में सुनवाई के दौरान अजितेश ने वकीलों पर पिटाई करने का आरोप लगाया।


इस मामले में हाईकोर्ट ने कड़ा रुख अपनाते हुए पिटाई मामले का स्वत: संज्ञान लेते हुए जिलाप्रशासन के अधिकारियों को तलब किया है।


पूरा मामला आगे पढ़े 
इलाहाबाद हाईकोर्ट ने पिटाई पर नाराजगी जताते हुए जिला प्रशासन को तलब किया और पुलिस को साक्षी व अजितेश की सुरक्षा देने के निर्देश दिए हैं। अजितेश के वकील ने बताया केवल अजितेश को पीटा गया था। पिटाई करने वाले अज्ञात ब्यक्ति थे। आज की घटना को देखते हुए माना जा सकता है,कि वास्तव में अजितेश को खतरा बना है।


बताया जाता जिस दौरान साक्षी मामले में कोर्ट में सुनवाई चल रही थी, उस दौरान विधायक राजेश मिश्रा भी कोर्ट पहुंचे थे। लेकिन वे मीडिया के सामने नही आये। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने साक्षी के शादी के प्रमाण पत्र सही पाये दोनों बालिग हैं।


इससे दोनों को एक साथ पति पत्नी के रुप में रहने की इजाजत दी। बता दें, बरेली से भाजपा विधायक राजेश मिश्रा की बेटी साक्षी मिश्रा पति अजितेश की सुरक्षा की मांग को लेकर 5 जुलाई को याचिका दायर की थी। इस पर सुनवाई के लिए 15 जुलाई की तारीख तय की गई थी।



याचिका में साक्षी-अजितेश ने सुरक्षा की मांग के लिए दलील दी है कि उनकी शादी से साक्षी के पिता नाखुश हैं, क्योंकि साक्षी एक ब्राह्मण है, जबकि अजितेश दलित है। इसलिए साक्षी के पिता से उनकी जान को खतरा है। साक्षी व अजितेश ने चार जुलाई को प्रयागराज के एक मंदिर में शादी की थी। शादी के बाद साक्षी ने दो वीडियो जारी कर अपनी व पति की जान को खतरा बताया था।


टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
रूस में दो नए काउंसलेट खोलने का ऐलान, मॉस्को में बोले मोदी- भारत का विकास देख दुनिया भी हैरान
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र