देश के इन बड़े शहरों में इस शुभ मुहूर्त में होगी लक्ष्मी-गणेश पूजा

दीपावली का त्योहार इस वर्ष कार्तिक कृष्ण पक्ष की अमावस्या को चित्रा नक्षत्र में 27 अक्टूबर 2019 को है। दिवाली में लक्ष्मी पूजन का विशेष महत्व होता है। इसकी तैयारी बहुत पहले से होने लगती है। मान्यता है कि दिवाली की रात मां लक्ष्मी धरती पर आती हैं। दीपावली पर लक्ष्मी पूजा हमेशा स्थिर लग्न में होनी चाहिए। वृष और सिंह लग्न को स्थिर लग्न माना जाता है। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार दिवाली पर मां लक्ष्मी की पूजा स्थिर लग्न में करने से उनका स्थायी निवास बन जाता है। इसलिए स्थिर लग्न और प्रदोष काल में पूजा का विशेष महत्व है। प्रदोष काल सूर्यास्त के बाद के तीन मुहूर्त होते हैं।


टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
रूस में दो नए काउंसलेट खोलने का ऐलान, मॉस्को में बोले मोदी- भारत का विकास देख दुनिया भी हैरान
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र