शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों ने 29 जनवरी को भारत बंद बुलाया, भाजपा का कहना है जो हो रहा है वह ठीक नहीं

शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों ने 29 जनवरी को भारत बंद बुलाया, भाजपा का कहना है जो हो रहा है वह ठीक नहीं


नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध में शाहीन बाग में 1 महीने से ज्यादा दिनों से विरोध प्रदर्शन चल रहा है. इसमें हजारों लोग शामिल हो रहे हैं जिनमें महिलाएं और बच्चे भी शामिल हैं. केंद्रीय गृहमंत्रालय से मिल रही जानकारी के मुताबिक अभी तक शाहीन बाग के प्रदर्शनाकारियों से बातचीत नहीं हुई है और न ही इस विरोध प्रदर्शन को समाप्त कराने का कोई रोड-मैप बना है। इस मामले को दिल्ली पुलिस ही अपने स्तर से देख रही है। भाजपा के नेताओं का कहना है कि शाहीन बाग जैसे प्रदर्शन के पीछे आखिर कौन लोग हैं? लोगों को नागरिकता संशोधन कानून- 2019 को लेकर कौन भड़का रहा है। भाजपा प्रवक्ता नलिन कोहली का कहना है कि जो हो रहा है वह ठीक नहीं है।


कुछ बुजुर्ग महिलाएं भी इसमें शरीक हो रही हैं. इन्हीं में से एक बुजुर्ग महिला ने मंगलवार को सरकार को खुली चुनौती दी. उसने कहा कि अगर सरकार पीछे नहीं हटेगी तो हम भी एक इंच पीछे नहीं हटेंगे. बेहद तल्ख अंदाज में बुजुर्ग महिला ने कहा कि हम मरने से नहीं डरते. इन महिलाओं की मांग है कि सरकार सीएए वापस ले नहीं तो उनका प्रदर्शन आगे भी जारी रहेगा.



शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों ने 29 जनवरी को भारत बंद बुलाया है. दिल्ली के शाहीन बाग में एक महीने से भी ज्यादा समय से CAA के खिलाफ प्रदर्शन चल रहा है. प्रदर्शनकारियों ने अब भारत बंद का आह्वान किया है. उन्होंने कहा कि दुनिया की कोई भी ताकत उन्हें यहां से नहीं हटा सकती.


शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों ने एक सुर में फैसला किया है कि 29 जनवरी को सड़कें जाम की जाएंगी. उनका कहना है कि सरकार अपने प्रतिनिधि भेजेगी, उसके बाद भी विरोध यूं ही जारी रहेगा. हालांकि इसके बीच-बचाव में दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने मंगलवार को शाहीन बाग के एक प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की और प्रदर्शन खत्म करने की अपील की. प्रतिनिधिमंडल ने उपराज्यपाल को एक ज्ञापन देकर सीएए वापस लेने की मांग की.


उपराज्यपाल ने प्रतिनिधिमंडल से लोगों को हो रही दिक्कतों के बारे में अवगत कराया. उन्होंने सड़क बंद होने के कारण स्कूली बच्चों, रोगियों और आम जन को हो रही परेशानियों का हवाला दिया.


 


टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
रूस में दो नए काउंसलेट खोलने का ऐलान, मॉस्को में बोले मोदी- भारत का विकास देख दुनिया भी हैरान
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र