डीजल और पेट्रोल के दामों में कमी एवं उत्पाद शुल्क को वापस लिये जाने की मांग पर कांग्रेस का धरना-प्रदर्शन


लखनऊ। केन्द्र सरकार द्वारा कच्चे तेल के दामों में लगभग तीन गुने की भारी कमी के बावजूद डीजल और पेट्रोल के उत्पाद शुल्क पर तीन रूपये प्रति लीटर की बढ़ोत्तरी करके तेल कम्पनियों के मालिक पूंजीपति मित्रों मुनाफाखोरी का रास्ता खोला गया है। कांग्रेस पार्टी अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के मूल्य में हुई भारी कमी होने के बावजूद आम जनता केा इसका लाभ न मिलने और मुनाफाखोरी के खिलाफ तथा असमय वर्षा, ओलावृष्टि और तेज हवाओं के चलते हुई फसलों की भारी बर्बादी और इस आपदा से हुई लगभग चार दर्जन लेागों की दुःखद मृत्यु पर समुचित आर्थिक मुआवजा प्रदान किये जाने की मांग को लेकर आज प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री अजय कुमार लल्लू जी के निर्देश पर उ0प्र0 के सभी जनपद मुख्यालयों पर सरकार के खिलाफ कांग्रेसजनों द्वारा विरोध प्रदर्शन कर विरोध दर्ज कराया गया।



इसी क्रम में आज राजधानी लखनऊ के जीपीओ पार्क स्थित राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी की प्रतिमा के सामने सैंकड़ों कांग्रेसजनों द्वारा विशाल धरना-प्रदर्शन किया गया। जिसमें केन्द्र एवं राज्य सरकार से कच्चे तेल के दाम में आयी भारी कमी का लाभ देश और प्रदेश की जनता को दिये जाने की मांग की गयी।



उल्लेखनीय है कि मौजूदा समय में कच्चे तेल की कीमत 30 डाॅलर प्रति बैरल के नीचे पहुंच गया है। जबकि यूपीए की सरकार में जब कच्चे तेल की कीमत लगातार 100 डाॅलर प्रति बैरल से ऊपर थी तब पेट्रोल 71 रूपये और डीजल 55 रूपये प्रति लीटर बिक रहा था तथा सरकार द्वारा पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क 9 रूपये तथा डीजल पर 3रूपये 50 पैसे था। यही जब 1991-92 में 30 डाॅलर प्रति बैरल से नीचे कच्चा तेल था तो कांग्रेस सरकार जनता को 17 रूपये में पेट्रोल और 13 रूपये प्रति लीटर डीजल मुहैया करा रही थी। लेकिन बड़े दुःख की बात है कि मौजूदा सरकार को जनता के हितों की कोई फिक्र नहीं है। आज 30 डालर प्रति बैरल कच्चा तेल सबसे न्यूनतम स्तर होने के बावजूद भी पेट्रोल 70 रूपये और डीजल 65 रूपये प्रति लीटर खरीदने के लिए देश और प्रदेश की जनता को मजबूर किया जा रहा है।



प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि असमय वर्षा, ओलावृष्टि, तेज हवा से हमारे प्रदेश के किसानों की फसलों की बहुत ज्यादा क्षति हुई है तथा लगभग चार दर्जन से अधिक लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। प्रदेश सरकार पूरी तरह उदासीन होकर सिर्फ शोशेबाजी कर रही है। कांग्रेस पार्टी मृतकों को बीस-बीस लाख रूपये एवं किसानों की बर्बाद हुई फसलों का पूरा मुआवजा दिये जाने की मांग करती है।



प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री अजय कुमार लल्लू जी ने कहा है कि 90 प्रतिशत देश की जनता डीजल और पेट्रोल की उपभोक्ता है चाहे वह कृषि क्षेत्र में आने वाले ट्रैक्टर, पम्पिंग सेट या अन्य कृषि संयत्र अथवा स्वयं के उपयोग के लिए दो पहिया और चार पहिया वाहन हों, माल ढुलाई एवं यातायात के साधन आदि सभी में डीजल और पेट्रोल की खपत होती है ऐसे में देश और प्रदेश की भाजपा सरकार मंहगाई को नियंत्रित करने एवं जनता के हितों पर ध्यान न देकर अपने पूंजीपति मित्रों के माध्यम से तेल कंपनियों को मुनाफाखोरी करवा रही है और आम जनता की जेब पर डाका डाल रही है। उन्होने ने कहा है कि पार्टी केन्द्र और राज्य की भाजपा सरकार द्वारा पेट्रोलियम पदार्थों पर की जा रही इस मुनाफाखोरी के खिलाफ जनता के हित में इसका लाभ दिलाये जाने और उत्पाद शुल्क को वापस लेने तथा अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत के अनुपात में तेल के दामों में कमी किए जाने की मांग पर निरन्तर सड़क से सदन तक संघर्ष करती रहेगी।



प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता बृजेन्द्र कुमार सिंह ने बताया कि पेट्रोल और डीजल के दामों में कमी किये जाने और केन्द्र सरकार द्वारा लगाये गये उत्पाद शुल्क को वापस लेने की मांग को लेकर आज प्रदेश के सभी जनपदों में जिला एवं शहर कांग्रेस कमेटियों के तत्वावधान में कांग्रेसजनों द्वारा व्यापक धरना-प्रदर्शन का आयोजन किया गया और सम्बन्धित जनपदों के जिलाधिकारियों को ज्ञापन के माध्यम से मांग पत्र सौंपा गया।


टिप्पणियाँ