न्याय का हक सभी को बराबर मिले- एडवोकेट शिवाल त्यागी


हिं.दै.आज का मतदाता नई दिल्ली अधिवक्ता शिवाल त्यागी एक युवा सोच के साथ-साथ आम जनमानस की हकीकत से अच्छी तरह से परिचित है आपने अपने पारिवारिक पृष्ठभूमि में कानूनी चर्चाओं को करीब से महसूस किया है आपके ऊपर देश के श्रेष्ठ अधिवक्ताओं के साथ साथ परिवार के भी अग्रज पिता तुल्य अधिवक्ताओं का व्यापक प्रभाव रहा है शिवाल त्यागी ने न्याय का हक सभी को बराबर मिले इसके लिए एक सोशल प्लेटफॉर्म जस्टिस लॉ फर्म के माध्यम से सदैव गरीब लोगों को न्याय दिलाने के लिए तन मन और धन से सक्रिय रहते हैं आपने एक संक्षिप्त भेंटवार्ता के अंतर्गत कानून, आर्थिक ,और जीएसटी के साथ-साथ फेसलेस स्कूटनी जैसे गंभीर मुद्दों पर अपनी बात रखी और कहा कि सर्वप्रथम कानूनी प्रक्रिया में तेजी लाने की नितांत आवश्यकता है, आप ने कहा कि आज  सबसे ज्यादा देरी यदि इस लोकतंत्र में  किसी क्षेत्र में होती है तो वह है कानूनी प्रक्रिया l देश को आजाद हुए कई दशक हो चुके हैं ऐसी स्थिति में यदि किसी आम नागरिक को न्याय देरी से  मिलता है तो वह न्याय, न्याय नहीं है l एडवोकेट शिवाल त्यागी ने कहा कि आज जनमानस न्याय देरी से मिलने की सच्चाई के कारण अनेक मामलों एवं मुद्दों पर समझौता कर लेता है  यह अच्छी परंपरा की शुरुआत नहीं है आपने कहा कि मैं कानून मंत्रालय और केंद्र  सरकार से अपील करता हूं कि कोर्ट और जज की संख्या बढ़ाई जाए क्योंकि जनसंख्या के हिसाब से कोर्ट सही अनुपात में नहीं है l  आपने कहा कि आज ई तकनीकी का उपयोग न्यायिक प्रक्रिया में ज्यादा से ज्यादा बढ़ाई जाए तो पारदर्शिता के साथ साथ कोर्ट का, जनता का, समय तो बचेगा ही न्याय भी जल्दी मिलेगा l आप ने कहा कि आज न्याय व्यवस्था में सक्रिय रूप से जुड़े हुए प्रोफेशनल का भी दायित्व बनता है कि वह भी जनमानस को न्याय के प्रति आशावादी बनाने में एक केंद्रीय भूमिका अदा करें l एडवोकेट शिवाल त्यागी ने न्यायिक प्रक्रिया में चल रहे  कोलेजियम व्यवस्था पर समीक्षा होने की बात रखी और कहा कि देश कई बदलाव से गुजर रहा है और देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हर क्षेत्र में अच्छे बदलाव की संभावना तलाशते रहते हैं l आपने आर्थिक क्रांति में बदलाव के रूप में जीएसटी एक्ट और फेसलेस स्कूटनी व्यवस्था को एक बेहतर शुरुआत बताई और कहा कि इससे धीरे-धीरे देश की आर्थिक स्थिति अधिक पारदर्शी और मजबूत हो जाएगी और बुनियादी रूप से हर व्यापारी, हर कारोबारी, हर नागरिक ,अपनी ईमानदारी की पारदर्शिता को राष्ट्रहित में ज्यादा से ज्यादा समर्पित कर पाएगा l बैंकिंग प्रणाली में एक महत्वपूर्ण सवाल के जवाब में आपने कहा कि यदि नए और युवा भविष्य को बैंकिंग सेक्टर उसे आर्थिक क्षेत्र में सबसे बड़ी बाधा गारंटी नीति को और अधिक सुगम बना देती है तो निश्चित ही युवा की कार्यशैली और विश्वास बढ़ जाएगा और वह देश हित में अपना सर्वोत्तम दे पाएगा l  एडवोकेट शिवाल त्यागी ने वर्तमान परिपेक्ष में faceless स्कूटनी को लोकतंत्र की एक अच्छी शुरुआत कहीं और कहां है इससे पारदर्शिता के साथ साथ आम नागरिक का भय समाप्त होगा और विश्वास में बढ़ोतरी होगी


टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
रूस में दो नए काउंसलेट खोलने का ऐलान, मॉस्को में बोले मोदी- भारत का विकास देख दुनिया भी हैरान
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र