सी॰एल॰ गुप्ता के कलम से



                                              अधिवक्ता  सी॰एल॰ गुप्ता 


चलो दिवाली मनाते हैं , 
जलने बालों को  और जलाते हैं
चलो फिर इस बार  दिवाली मनाते हैं
ज़ख़्म  गहरे  दिए है इस बार साल २०२० में
चलो इसको पीछे छोड़ आते है
चलो दिवाली मनाते है, 
ज़रूरी नही हार बॉर जीत ही मिलें 
इस बार  अनुभव से सिख कर नया सवेरा लातें हैं
  चलो फिर इस बार दिवाली मनाते हैं
क्या हुआ जो हासिल नही हुआ , 
अपने हौसलों को नयी मंज़िल बताते हैं
चलो इस बॉर दिवाली मनाते हैं
यूँ मुश्किलों से नही डरते , 
मुश्किलों को अपने  होसलों से मिलवाते हैं
हाँ इस बार दिवाली मनाते है 
जो रूठे है - जो ख़फ़ा हैं , उन्हें  मनाते हैं
चलो फिर इस बार दिवाली मनाते हैं
मेरे हौसले भी किसी हकीम से कम नही है साहब 
मेरी हर  तकलीफ़ मेन मेरे दर्द की दवा बन जाते है
चलो इस बार दिवाली मनाते हैं, 
एक दीया सबके के लिए जलाते हैं
चलो फिर एक बार दिवाली मनाते है
अपने हैसलो में नया जुनून  जगाते हैं
चलो फिर इस बार दिवाली मनाते हैं
मुश्किलें मेरे हौसलों से बड़ी नही है, 
इन मुश्किलों यही समझाते है
चलो फिर इस बार दिवाली मनाते है
चलो इस बार  फिर दिवाली मनाते हैं


टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
रूस में दो नए काउंसलेट खोलने का ऐलान, मॉस्को में बोले मोदी- भारत का विकास देख दुनिया भी हैरान
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र