राजनीतिक गलियारों में बसपा के रूख का इंतजार - प्रेम श्रीवास्तव



हिंदी दैनिक आज का मतदाता लखनऊ विधानपरिषद की रिक्त हुई 12 सीटों के लिए होने वाले चुनाव में अब तक भाजपा के 10 प्रत्याषी घोषित हो चुके हैं। समाजवादी पार्टी के दो पूर्व विधानपरिषद सदस्यों राजेन्द्र चैधरी और अहमद हसन के नामांकन के बाद अब सबकी निगाह बहुजन समाज पार्टी पर टिकी है। अब तक बसपा ने अपने पत्ते नही खोले हैं जबकि नामांकन का  अंतिम दिन 18 जनवरी है।

विधान परिषद के चुनाव में एक सीट पर जीत हासिल करने के लिए करीब 32 वोटों की जरूरत पड़ेगी।  अगर किसी को प्रथम वरीयता के 32 वोट ना मिले, तो दूसरी वरीयता के वोटों से फैसला होगा।  ऐसे में भाजपा को अपना 11वां प्रत्याशी उतारने से पहले काफी मंथन करना होगा।  

भाजपा को अब अपना 11वां प्रत्याशी मैदान में उतारने से पहले काफी सोचना पड़ेगा। प्रदेश विधान सभा में समाजवादी पार्टी के सदस्यों की संख्या को देखते हुए उसे विधान परिषद की एक सीट पर कामयाबी मिलना तो तय था मगर दूसरी सीट के लिए जरूरी 32 वोटों के लिए दूसरे दलों के विधायकों को अपने पाले में करना पडेगा।  

बीते राज्यसभा चुनाव में बहुजन समाज पार्टी के छह विधायक सपा के पाले में नजर आए थे। सपा को दूसरा प्रत्याशी जिताने के लिए 17-18 विधायकों के वोट चाहिए। ऐसे से कांग्रेस और सुभासपा के अलावा निर्दल विधायकों की भी जरूरत होगी।

इसके लिए सपा जोड़-तोड़ के प्रयास करेगी।  कांग्रेस के सात विधायकों में से दो के बागी होने के पास अब उसके पास केवल पांच विधायक है।  कांग्रेस के 5 विधायक सपा के साथ जा सकते हैं। सपा को अपने दोनो पर प्रत्याशियों  की जीत के लिए करीब 18 वोट हासिल करने होंगे।  इनके साथ सपा को सुभासपा व अन्य पार्टियों के बागी और निर्दलीय विधायकों का समर्थन भी जुटाना पड़ेगा।  अगर बसपा अपना प्रत्याशी नहीं उतारती है, तो सीधे तौर पर सपा की जीत तय हो जाएगी। अब देखना होगा कि राजनीतिक दल कौन सी सियासी गणित लगाकर इस 12वीं सीट पर कब्जा करते हैं।  

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
रूस में दो नए काउंसलेट खोलने का ऐलान, मॉस्को में बोले मोदी- भारत का विकास देख दुनिया भी हैरान
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र