भारत में अप्रैल में 27,700 से अधिक शिकायतें मिलीं, क़रीब साठ हज़ार सामग्रियां हटाई गईं: गूगल

नए आईटी नियमों के तहत गूगल ने अपनी पहली मासिक पारदर्शिता रिपोर्ट दी है, जिसमें कहा है कि उसे स्थानीय क़ानूनों या व्यक्तिगत अधिकारों के कथित उल्लंघन को लेकर शिकायतें मिलीं, जिसके परिणामस्वरूप 59,350 सामग्रियां प्लेटफॉर्म से हटाई गईं.

(फोटो: रॉयटर्स)

(फोटो: रॉयटर्स)

नयी दिल्लीः गूगल ने अपनी पहली मासिक पारदर्शिता रिपोर्ट में कहा है कि उसे भारत में इस साल अप्रैल में यूजर्स से 27,700 से अधिक शिकायतें मिली हैं.

ये शिकायतें स्थानीय कानूनों या व्यक्तिगत अधिकारों के कथित उल्लंघन को मिली हैं, जिसके फलस्वरूप 59,350 कंटेंट को प्लेटफॉर्म से हटाया गया है.

गूगल उन बड़े प्लेटफॉर्म में से एक है, जिसने इस साल 26 मई से लागू हुए नए आईटी नियमों के तहत अपनी पहली मासिक अनुपालन रिपोर्ट जारी की है.

बता दें कि नए आईटी नियमों के तहत 50 लाख से अधिक यूजर्स वाले बड़े डिजिटल मंचों को हर महीने अपनी अनुपालन रिपोर्ट प्रकाशित करनी होगी, जिसमें प्राप्त शिकायतों और उन पर की गई कार्रवाई का विवरण होगा.

रिपोर्ट में कई ऐसे संचार लिंक या जानकारी का ब्योरा भी दिया गया होगा, जिन्हें गूगल ने स्वचालित उपकरणों की मदद से हटा दिया है या पहुंच को अक्षम कर दिया है.

गूगल के एक प्रवक्ता ने बताया कि कंपनी का दुनियाभर से मिलने वाले विभिन्न अनुरोधों के संबंध में पारदर्शिता का एक लंबा इतिहास रहा है.

प्रवक्ता ने बुधवार को कहा, ‘इन सभी अनुरोधों को ट्रैक किया गया और 2010 से हमारे मौजूदा पारदर्शिता रिपोर्ट में शामिल किया गया. यह पहली बार है कि हम भारत के नए आईटी नियमों के अनुरूप मासिक पारदर्शिता रिपोर्ट जारी करेंगे और अधिक जानकारी का प्रकाशन करेंगे क्योंकि हम भारत के लिए अपनी रिपोर्टिंग प्रक्रिया को बेहतर बना रहे हैं.’

फेसबुक ने मंगलवार को कहा था कि वह दो जुलाई को अपनी अंतरिम रिपोर्ट जारी करेगा, जिसमें 15 मई से 15 जून के बीच सक्रिय रूप से हटाए गए कंटेंट की संख्या के बारे में जानकारी दी जाएगी.

वहीं, अंतिम रिपोर्ट 15 जुलाई को प्रकाशित की जाएगी, जिसमें यूजर्स की शिकायतों का विवरण होगा. 15 जुलाई की रिपोर्ट में वॉट्सऐप से जुड़ा हुआ डेटा भी होगा.

बुधवार को जारी गूगल की रिपोर्ट में कहा गया कि गूगल और यूट्यूब को भारत में अप्रैल 2021 में यूजर्स से 27,762 शिकायतें मिली हैं.

रिपोर्ट में कहा गया, ये शिकायतें थर्ड पार्टी कंटेंट से जुड़ी हुई हैं, जिसमें स्थानीय कानूनों और गूगल निजी अधिकारों के उल्लंघन का आरोप लगाया गया है.

रिपोर्ट के मुताबिक, 26,707 (96.2 फीसदी) शिकायतें कॉपीराइट से जुड़ी हुई हैं. 357 (1.3 फीसदी) ट्रेडमार्क, 275 मानहानि (1 फीसदी) से जुड़ी शिकायतें हैं. शिकायतों की अन्य श्रेणियां कानूनी (272), जालसाजी (114) और धोखाधड़ी (37) से जुड़ी हुई हैं.

बता दें कि गूगल 2010 से अपनी पारदर्शिता रिपोर्ट प्रकाशित करता आ रहा है.

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
शिक्षा और चिकित्सा हर किसी को निशुल्क मिले कुल भूषण त्यागी
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
मतदान लोकतंत्र का सबसे बड़ा पर्व है एडवोकेट अरविंद गुप्ता
चित्र
एलआईसी विश्वास और पारिवारिक सुरक्षा ,उज्जवल भविष्य और सम्मान का प्रतीक है प्रशांत वशिष्ठ,
चित्र