मोदी की आर्थिक नीतियों से हर व्यापारी त्रस्त है, अनुराग गर्ग

 

अनुराग गर्ग 

हिंदी दैनिक आज का मतदाता गाजियाबाद सिहानी गेट व्यापार मंडल के अध्यक्ष व महानगर उद्योग व्यापार मंडल गाजियाबाद के उपाध्यक्ष अनुराग गर्ग ने एक वार्ता के अंतर्गत कहा कि देश का हर व्यापारी और खास तौर पर मध्यम वर्ग व्यापारी मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों से अत्यधिक त्रस्त है और वह अपनी दिक्कतों को खुले मंच पर नहीं कह पा रहा है ,अनुराग गर्ग ने कहा कि आज व्यापारिक प्रतिष्ठान का कारोबार बहुत तेजी से कम होता जा रहा है करोना ने आर्थिक गतिविधियों को तो रोके ही दिया लेकिन काफी हद तक मोदी की  आर्थिक नीतियां भी आज की इस मंदी के लिए  काफी हद तक जिम्मेदार है आपने कहा कि आज व्यापारी मन बना चुका है कि वह भाजपा का विरोध करेगा क्योंकि कई दशक से उसने अपने मेहनत से जिस व्यापार को खड़ा किया अब वह उसी व्यापार को खोखला होते हुए देख रहा है, आज व्यापारी की स्थिति यह हो गई है कि वह ना घर का है ना घाट का है अनुराग गर्ग ने कहा कि सरकार ने करोना के दौरान व्यापारी वर्ग को बिजली के बिल में हाउस टैक्स में या बैंक के ब्याज में या लोन ली हुई रकम पर किसी भी तरह की कोई राहत नहीं दिया है कोई छूट नहीं दिए बल्कि उसे कुछ समय के लिए एक लुभावना पैकेज दिया है जिसमें वह फस जाए और दोगुना ब्याज के साथ बैंक को अपनी रकम वापस करें। अनुराग गर्ग  ने कहा कि आज बहुत आवश्यक है कि व्यापारी खुलकर अपनी बात सही मंच पर रखें सरकार व्यापार और व्यापारी दोनों को बचाए तभी ही देश का विकास होगा नहीं तो धीरे-धीरे देश का बुनियाद हिल जाएगा और उस स्थिति में किसी भी राजनैतिक पार्टी के अंदर इतनी ताकत नहीं होगी की वाह देश की आर्थिक बुनियाद को संभाल सके या उसको  दोबारा पटरी पर ला सकें।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
यूपी सरकार से तंग आ चुके हैं हम, वहां जंगलराज जैसी स्थितिः सुप्रीम कोर्ट
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र