भूपेश बघेल ने अपने पिता को करवाया गिरफ्तार, पत्रकार बोले- ब्राह्मणों को खुश करने के लिए बुजुर्ग पिता पर अत्याचार!

 


नंद कुमार बघेल को आज कौन नहीं जानता, खासकर दलितों पिछड़ों के समर्थन और ब्राह्मणवाद के विरोध के कारण उन्हें उत्तर भारत का पेरियार कहा जाता है। इसके साथ साथ नन्द कुमार बघेल छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के पिता भी है।


 

नंद कुमार बघेल वो शख्सियत हैं जिन्होंने 86 साल की उम्र में भी कास्ट सेंसस के लिए देश भर में जन जागरण किया है।खबरों के मुताबिक, उत्तर भारत के पेरियार कहे जाने वाले नंद कुमार बघेल को छत्तीसगढ़ पुलिस ने जेल भेज दिया है।

आपको बता दें कि इससे पहले भी नन्द कुमार बघेल को गिरफ्तार करने की मांग उठती रहती है इससे पहले लखनऊ में दिए गए उनके बयां को लेकर भी बवाल खड़ा हो चुका है हालाँकि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पुलिस ने उन्हें गिरफ़्तार नहीं किया था।

पर अब जो काम दूसरे प्रदेश की सरकारें नहीं कर पाईं वह काम खुद उनके बेटे और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कर दिया है।

ब्राह्मणों के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल के पिता नंद कुमार बघेल को मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया गया। उन्हें दिल्ली से गिरफ्तार करने के बाद रायपुर लाकर कोर्ट में पेश किया गया।

बघेल के वकील गजेंद्र सोनकर ने बताया कि उन्हें 21 सितंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

दीनदयाल विप्र समाज ने कराई एफआईआर

नंद कुमार बघेल के खिलाफ दीनदयाल विप्र समाज के सदस्यों ने प्राथमिकी दर्ज कराई है। रायपुर में डीडी नगर थाने की प्रभारी योगिता खोपर्डे ने बताया कि दो सितंबर को हमें सर्व ब्राह्मण समाज, सुंदर नगर से शिकायत मिली थी कि नंद कुमार बघेल ने ब्राह्मण समुदाय के खिलाफ टिप्पणी की थी। चार सितंबर को मामला दर्ज किया गया।

लखनऊ में की थी यह टिप्पणी

नंद कुमार बघेल ने पिछले महीने लखनऊ में आयोजित कार्यक्रम में ब्राह्मणों पर टिप्प्णी की थी। मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कथित तौर पर कहा था,

‘अब वोट हमारा राज तुम्हारा नहीं चलेगा। हम आंदोलन करेंगे। ब्राह्मणों को गंगा से वोल्गा (रूस की एक नदी) भेजेंगे, क्योंकि ब्राह्मण विदेशी हैं। ब्राह्मण सुधर जाएं या फिर वोल्गा जाने को तैयार हो जाएं। ‘

14 दिन के लिए भेजा गया न्यायिक हिरासत पर

नन्द कुमार भगेल को कल गिरफ्तार किया गया और आज मंगलवार को उन्हें कोर्ट में पेश किया गया। जमानत अर्जी दाखिल नहीं होने से 1 घंटे चली बहस के बाद कोर्ट ने उन्हें जेल भेजने के निर्देश दिए। अगली सुनवाई 21 सितंबर को होगी। तब तक के लिए उन्हें न्यायिक रिमांड पर जेल दाखिल किया गया है।

बता दें कि मामला संज्ञान में आते ही मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बयान जारी किया था। उन्होंने सरकार से भी ऊपर छत्तीसगढ़ में कानून को बताया था। उन्होंने स्पष्ट कहा था कि उनके 86 वर्षीय पिता ही क्यों न हो कानून सबके लिए बराबर है।

उसके बाद खबर आई की रायपुर पुलिस ने सीएम के पिता को गिरफ्तार करने रवाना हुई। सोमवार को नंदकुमार बघेल को आगरा से गिरफ्तार किया गया।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
एलआईसी विश्वास और पारिवारिक सुरक्षा ,उज्जवल भविष्य और सम्मान का प्रतीक है प्रशांत वशिष्ठ,
चित्र
शिक्षा और चिकित्सा हर किसी को निशुल्क मिले कुल भूषण त्यागी
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
कोरोना वायरस: भारत में 1.56 लाख से अधिक की मौत, विश्व में मृतक संख्या 25 लाख के पार
चित्र