सतीश चंद मित्तल 

गाजियाबाद पर्यावरण, प्रदूषण और जल हमारी और सरकार की प्राथमिकता होनी  चाहिए, सतीश चंद मित्तल गाजियाबाद बुलंदशहर इंडस्ट्रियल एरिया रोटरी क्लब आप गाजियाबाद अनंत के अध्यक्ष सतीश चंद्र मित्तल ने एक संक्षिप्त वार्ता के अंतर्गत भविष्य में मानवीय संरचना और उसके जीवन से संबंधित अनमोल ईश्वरी पदार्थों के बारे में चर्चा करते हुए कहां की वक्त रहते यदि मानव अपने भविष्य की आगामी चिंता को ध्यान में रखते हुए प्रदूषण, पर्यावरण, और स्वच्छ जल से संबंधित अपने प्रयासों में और आदतों में अभूतपूर्व परिवर्तन  लाता है तो अनमोल ईश्वरी पदार्थ की उपलब्धता के साथ-साथ उसकी गुणवत्ता भी बनी रहेगी लेकिन ऐसा अगर नहीं करता है तो आगामी पीढ़ी को बहुत बड़ा धोखा देगा। सतीश मित्तल ने कहा मानव समाज के साथ-साथ सरकार भी  इस दिशा में बहुत ही बुनियादी कदम उठाए ,नहीं तो आने वाले समय में हमारे भविष्य की पीढ़ी इन सारी चीजों से प्रभावित होंगी,ऐसी स्थिति में सरकार कोई ऐसी कारगर योजना बनाएं जिससे कि इन अनमोल ईश्वरी पदार्थों की रक्षा हो सके, आपने कहा कि करोना ने हमें ईश्वरी मूल्यों की कीमत अच्छी तरह से समझा दिया है हम सभी को अपने जीवन को प्राथमिकता देते हुए अपने भौतिकी कार्यों को आगे बढ़ाना चाहिए। आज आधुनिक भौतिकी युग में सब कुछ अर्जित किया जा सकता है लेकिन ईश्वरी प्रदत अनमोल पंचतत्व परमात्मा का अनमोल तोहफा है जिसे मानवी युग में कृत्रिम रूप से तो बनाया जा सकता है लेकिन वह अत्यधिक समय के लिए मानव समाज के लिए उपलब्ध नहीं रह पाता। सतीश चंद मित्तल ने कहा आज मानव इन पदार्थों की कीमत को समझें और संकल्प लें कि वह पर्यावरण की रक्षा करेगा प्रदूषण को कम करेगा  और जल को स्वच्छ रखने में अपने सामर्थ्य के अनुसार अपने कर्तव्यों का सदैव निर्वहन करेगा तभी ही इस धरा के प्रति हम अपने ऋण को सही मायने में चुकता करने में थोड़ा बहुत  योगदान कर सकते हैं और ऐसा करने से हम अपने आगामी पीढ़ी के लिए सुंदर वातावरण तैयार करेंगे जो हमारी कर्तव्य निष्ठा का सबसे बड़ा उदाहरण होगा।



 

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
यूपी सरकार से तंग आ चुके हैं हम, वहां जंगलराज जैसी स्थितिः सुप्रीम कोर्ट
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र