रिलायंस फाउंडेशन ने वीमेन कनेक्ट चैलेंज इंडिया ग्रांट प्राप्त करने वाले संगठनों के नाम घोषित किए

 


मुंबई,  : रिलायंस फाउंडेशन और यू.एस. एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डेवलपमेंट (यूएसएड) द्वारा शुरू किए गए वीमेन कनेक्ट चैलेंज इंडिया के माध्यम से पूरे भारत में दस संगठनों को अनुदान प्राप्तकर्ताओं के रूप में चुना गया है। इस पहल के माध्यम से, लैंगिक डिजिटल विभाजन को दूर करने में मदद करने के लिए 11 करोड़ रुपये (1.5 मिलियन अमरीकी डालर से अधिक) का निवेश किया गया है और इसमें से, रिलायंस फाउंडेशन ने विभिन्न समस्याओं के इनोवेटिव समाधान बनाने के लिए परियोजनाओं के लिए अनुदान में 8.5 करोड़ रुपये (1.1 मिलियन अमरीकी डालर से अधिक) का समर्थन किया है। इस प्रयास के तहत 17 राज्यों में 3 लाख (300,000) से अधिक महिलाएं और लड़कियां लैंगिक डिजिटल विभाजन को दूर करने और प्रौद्योगिकी के माध्यम से महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण को बढ़ाने की पहल से लाभान्वित होंगी।


 
चुने गए संगठनों की घोषणा के मौके पर श्रीमती नीता एम.अंबानी, संस्थापक-चेयरपर्सन, रिलायंस फाउंडेशन ने कहा कि ‘‘जीवन के हर क्षेत्र में महिलाओं को सक्षम और सशक्त बनाना हमारा मिशन रहा है। जब हमने जियो लॉन्च किया, तो हमने एक डिजिटल रेवोल्यूशन की कल्पना की थी जो सभी के लिए समान अवसर प्रदान करे। जियो के माध्यम से, हम अपने देश के हर हिस्से में मौजूद लोगों को सबसे सस्ती कनेक्टिविटी प्रदान कर रहे हैं। रिलायंस फाउंडेशन भारत में लैंगिक डिजिटल अंतर को पाटने की दिशा में यूएसएड के साथ साझेदारी में भी काम कर रहा है। प्रौद्योगिकी असमानता को दूर करने और समाप्त करने का एक शक्तिशाली साधन है। मैं परिवर्तन की इस यात्रा पर हमारे वीमेन कनेक्ट चैलेंज इंडिया के दस विजेताओं को बधाई देती हूं और अपने साथ आने पर स्वागत करती हूं।’’

इस प्रयास के तहत अनुदान प्राप्त करने वाले संगठनों में अनुदीप फाउंडेशन, बेयरफुट कॉलेज इंटरनेशनल, सेंटर फॉर यूथ एंड सोशल डेवलपमेंट, फ्रेंड्स ऑफ विमेन वर्ल्ड बैंकिंग, नंदी फाउंडेशन, डेवलपमेंट एक्शन के लिए प्रोफेशनल असिस्टेंस, सोसाइटी फॉर डेवलपमेंट अल्टरनेटिव्स, सॉलिडेरिडाड रीजनल एक्सपर्टाइज सेंटर, टीएनएस इंडिया फाउंडेशन और जेडएमक्यू डेवलपमेंट शामिल हैं। समाधान महिला किसानों, उद्यमियों, स्वयं सहायता समूहों के सदस्यों को लैंगिक डिजिटल विभाजन को पाटने के लिए सामाजिक और सांस्कृतिक बाधाओं को दूर करने के लिए किए जा रहे प्रयासों को संबोधित करते हैं।वीमेन कनेक्ट चैलेंज इंडिया को अगस्त 2020 में लॉन्च किया गया था। 180 से अधिक आवेदनों के पूल से, 10 संगठनों को 12 से 15 महीनों की अवधि के लिए 75 लाख से 1 करोड़ रुपए (100,000- 135,000 यूएस डॉलर) के बीच अनुदान के साथ चुना गया था। जनवरी 2021 में, यूएस एड और रिलायंस फाउंडेशन ने संयुक्त रूप से एक सॉल्वर सिम्पोजियम की मेजबानी की, जिसमें भारत में लैंगिक डिजिटल विभाजन पर विचार-मंथन करते हुए क्षमता निर्माण के लिए सेमी-फाइनलिस्ट और बाहरी विशेषज्ञों को एक साथ लाया गया।

महिलाओं में हर साल मोबाइल इंटरनेट के प्रति जागरूकता बढ़ रही है। जबकि 2017 में भारत में केवल 19 प्रतिशत महिलाएं ही मोबाइल इंटरनेट के बारे में जानती थीं; 2020 में यह बढ़कर 53 प्रतिशत हो गया। स्वामित्व के मामले में, 79 प्रतिशत  पुरुषों की तुलना में 67 प्रतिशत महिलाओं के पास मोबाइल फोन है। वर्षों से, रिलायंस फाउंडेशन की पहल का उद्देश्य डिजिटल विभाजन को दूर करना रहा है। रिलायंस जियो के माध्यम से, 1.3 बिलियन से अधिक भारतीयों ने राष्ट्रव्यापी स्तर पर एक संपूर्ण डिजिटल क्रांति देखी है जिसने सभी के जीवन को बदल दिया। आज, जियो भारत में सबसे बड़ी डिजिटल सर्विस प्रोवाइडर कंपनी है, और 120 मिलियन महिला जियो उपयोगकर्ताओं के साथ दुनिया में दूसरी सबसे बड़ी कंपनी हैं, और डिजिटल विभाजन को पाटने के लिए यह संख्या तेजी से बढ़ रही है।

वीमेन कनेक्ट चैलेंज महिलाओं की पहुंच और प्रौद्योगिकी के उपयोग के तरीकों को सार्थक रूप से बदलकर रोजमर्रा की जिंदगी में महिलाओं की भागीदारी को बेहतर बनाने के समाधान के लिए एक वैश्विक आह्वान है। यूएसएड ने भारत में लैंगिक डिजिटल विभाजन को बंद करने वाले नए दृष्टिकोणों का समर्थन करने के लिए रिलायंस फाउंडेशन के साथ भागीदारी की है और नए अनुदान प्राप्त करने वाले महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण को बढ़ाने के लिए पिछले वीमेन कनेक्ट राउंड से प्रमाणित रणनीतियों पर ध्यान केंद्रित करेंगे।यूएसएड: परिचय

यूएसएड दुनिया की प्रमुख अंतरराष्ट्रीय विकास एजेंसी है और विकास के परिणामों को चलाने वाली एक प्रेरक संस्था है। यूएसएड जीवन को ऊपर उठाने, समुदायों के निर्माण, लोकतंत्र को आगे बढ़ाने और दुनिया भर में महिला सशक्तिकरण के लिए चैंपियन बनाने में मदद करने के लिए काम करता है। यूएसएड के कार्य से यू.एस. की राष्ट्रीय सुरक्षा और आर्थिक समृद्धि को प्रोत्साहन मलता है; अमेरिकी उदारता प्रदर्शित करता है और देशों को उनकी विकास यात्रा में प्रगति में मदद करता है।

आज तक, यूएसएड के पास तीन अलग-अलग दौरों में 16 वीमेनकनेक्ट चैलेंज ग्रांट हैं जो महिलाओं की प्रौद्योगिकी तक पहुंच को सीमित करने वाली बाधाओं को दूर करने और 16 देशों में लगभग 6 मिलियन महिलाओं को जोड़ने के लिए काम कर रहे हैं। वीमेन कनेक्ट राउंड वन, 2018 में, नौ ग्रांट्स से सम्मानित किया गया और 2019 में वूमेनकनेक्ट राउंड टू को तीन से सम्मानित किया गया। इस साल की शुरुआत में, वीमेन कनेक्ट राउंड थ्री के लिए चार विजेताओं की घोषणा की गई थी।रिलायंस फाउंडेशन: परिचय

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की जनसेवा इकाई रिलायंस फाउंडेशन का उद्देश्य नवीन और सक्षम  समाधानों के माध्यम से राष्ट्र के विकास के लिए मौजूद चुनौतियों के समाधान करने में प्रमुख भूमिका निभाना है। संस्थापक और चेयरपर्सन नीता अंबानी के नेतृत्व में, रिलायंस फाउंडेशन निरंतर सभी के लिए समग्र सुख और उच्च गुणवत्ता के जीवन को सुनिश्चित करने के लिए परिवर्तनकारी बदलावों परिवर्तनों को सुविधाजनक बनाने की दिशा में काम कर रहा है। भारत की सबसे बड़ी सामाजिक पहलों में, फाउंडेशन ग्रामीण परिवर्तन, शिक्षा, स्वास्थ्य, खेल विकास, आपदा प्रतिक्रिया, शहरी नवीकरण और कला, संस्कृति और विरासत के क्षेत्र में राष्ट्र के विकास चुनौतियों के समाधान करने पर केन्द्रित है। रिलायंस फाउंडेशन ने 44,700 से अधिक गांवों और 51 मिलियन से अधिक लोगों के जीवन को स्पर्श किया है।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
यूपी सरकार से तंग आ चुके हैं हम, वहां जंगलराज जैसी स्थितिः सुप्रीम कोर्ट