उमर खालिद हीरो है इसलिए जेल में है, दंगाई होता तो किसी राज्य का मुख्यमंत्री होता : RJD सांसद

 


देश की राजधानी दिल्ली में बीते साल हुई हिंसा के मामले में जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र उमर खालिद समेत कई लोगों को गिरफ्तार किया गया है।


 
13 सितंबर 2020 को दिल्ली पुलिस की विशेष शाखा द्वारा दिल्ली हिंसा मामले में उमर खालिद को गिरफ्तार किया गया था। यूएपीए के तहत उमर खालिद बीते एक साल से जेल में बंद हैं।

जेएनयू के पूर्व छात्र उमर खालिद पर यूएपीए लगाकर उन्हें जेल में रखे जाने का कई नेताओं द्वारा विरोध किया जा चुका है।इस मामले में उमर खालिद के खिलाफ दाखिल किए गए चार्जशीट पर भी सवाल उठ रहे हैं।

विपक्षी नेताओं का कहना है कि भाजपा सरकार दिल्ली हिंसा के मुख्य आरोपियों को बचाने के लिए नागरिकता संशोधन कानून का विरोध करने वाले लोगों को अपराधी बना रही है।

जेएनयू के पूर्व छात्र उमर खालिद के ‘अन्यायपूर्ण’ कारावास के एक वर्ष के अवसर पर एक जनसभा का आयोजन किया गया था।

इस जनसभा में दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के पूर्व अध्यक्ष जफरुल इस्लाम खान, वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण, किसान नेता जसवीर कौर और राजद नेता मनोज झा ने संबोधित करते हुए सरकार पर निशाना साधा है।इस मामले में राष्ट्रीय जनता दल के राज्यसभा सांसद मनोज झा ने मोदी सरकार पर सवाल खड़े किए हैं।

उन्होंने कहा है कि अगर उमर खालिद दंगे प्लान कर सकता है तो आज वो मुख्यमंत्री होता, जेल में नहीं होता।

इस मुश्किल वक़्त में आप नायकों को फिल्मों में, और सरकार के खिलाफ बोलने वालों को सलाखों के पीछे पाएंगे।

आपको बता दें कि हाल ही में कड़कड़डूमा कोर्ट में उमर खालिद के वकील ने दिल्ली पुलिस द्वारा किए गए दावों को खारिज करते हुए कहा कि सीएए के खिलाफ पूरे देश में प्रदर्शन हुए थे। दिल्ली पुलिस ने उमर खालिद के खिलाफ जो चार्जशीट दायर की है।उसमें किसी भी तरह के अपराध की बात नहीं की गई है। जिस न्यूज़पेपर को आधार बनाकर पेश किया गया है।

उस न्यूज़ एजेंसी के पास पूरी वीडियो ही मौजूद नहीं है और इसके अलावा जिन बातों का चार्जशीट में जिक्र किया गया है। वो किसी भी तरीके से यूएपीए के तहत नहीं आती।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
एलआईसी विश्वास और पारिवारिक सुरक्षा ,उज्जवल भविष्य और सम्मान का प्रतीक है प्रशांत वशिष्ठ,
चित्र
शिक्षा और चिकित्सा हर किसी को निशुल्क मिले कुल भूषण त्यागी
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
कोरोना वायरस: भारत में 1.56 लाख से अधिक की मौत, विश्व में मृतक संख्या 25 लाख के पार
चित्र