ग्लोबल हंगर इंडेक्स: 116 देशों में 101वें स्थान पर भारत, विकास में नहीं बल्कि भुखमरी में हमें अव्वल बना रहे हैं मोदी?

 


केंद्र में सत्तारूढ़ मोदी सरकार के शासनकाल में भारत लगातार गरीब देशों में शामिल होता जा रहा है। बीते कुछ सालों से देश में भयंकर बेरोजगारी आने के कारण गरीबी और भुखमरी काफी बढ़ गई है।

इसी बीच ग्लोबल हंगर इंडेक्स 2021 की एक रिपोर्ट सामने आई है। जिसके मुताबिक भारत इस साल और भी नीचे आ गया है।

ग्लोबल हंगर इंडेक्स, दुनिया भर में भुखमरी की स्थिति को जानने के लिए बनाई जाने वाली रिपोर्ट है। जिसमें बताया गया है कि भारत में बढ़ रही भुखमरी की स्थिति चिंताजनक है।

क्योंकि भारत इस मामले में अपने पड़ोसी देशों पाकिस्तान, बांग्लादेश और नेपाल से भी पिछड़ चुका है।भारत 116 देशों के ग्लोबल हंगर इंडेक्स में 101वें स्थान पर आया है। जबकि साल 2020 में भारत 94वें स्थान पर था।

जबकि पड़ोसी मुल्क नेपाल 76वें स्थान पर, बांग्लादेश भी 76वें स्थान पर, म्यांमार 71वें स्थान पर और पाकिस्तान 92वें स्थान पर है।

इसके साथ-साथ भारत का जीएचआई स्कोर भी नीचे आ गया है। जो कि साल 2000 में 38.8 था। 2012 और 2021 के बीच 28.8 – 27.5 के बीच रहा।जानकारी के लिए आपको बता दें कि किसी भी देश के जीएचआई स्कोर की गणना 4 संकेतको पर की जाती है।


जिनमें अल्पपोषण, कुपोषण, बच्चों की वृद्धि दर और बाल मृत्यु दर शामिल होते हैं। गौरतलब है कि जिस रफ्तार से भारत में महंगाई और बेरोजगारी बढ़ रही है।

उस हिसाब से जल्द ही ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत जल्द ही कई अन्य कई गरीब देशों को भी पीछे छोड़ देगा।मोदी सरकार देश में बढ़ रही महंगाई और बेरोजगारी के मुद्दे पर विपक्षी दलों के निशाने पर बनी रहती है।

भारत में सरकार द्वारा लगातार पेट्रोल डीजल और गैस सिलेंडरों के दाम बढ़ाए जा रहे हैं। जिससे आम जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित हो रहा है।

बढ़ रही महंगाई लोगों को गरीबी और भुखमरी की ओर धकेलने का काम कर रही है। जिस पर नियंत्रण करने के लिए सरकार द्वारा कोई ठोस कदम नहीं उठाए जा रहे।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
यूपी सरकार से तंग आ चुके हैं हम, वहां जंगलराज जैसी स्थितिः सुप्रीम कोर्ट