किसान की मौत पर भी मीडिया का दिल नहीं पसीजा, शायर इमरान बोले- इनके लिए 8 लाश नहीं 8gm कोकीन ज्यादा वजनदार है

 


भाजपा शासित उत्तर प्रदेश के लखीमपुर में घटी घटना में एक बार फिर से भाजपा समर्थक मीडिया किसानों को बदनाम करने की कोशिश कर रहा है।

कई अखबारों में इस पूरी घटना का जिम्मेदार किसानों प्रदर्शनकारियों को बताया गया है।

जबकि केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता अजय मिश्रा qके बेटे आशीष मिश्रा को किसानों पर गाड़ी चलाते और उन पर गोलियां चलाते वहां पर मौजूद एक सिपाही ने भी देखा है।

कई न्यूज़ चैनलों पर इस घटना में मारे गए किसानों पर खबरों को तोड़ मरोड़ कर प्रकाशित किया जा रहा है।इस मामले में भाजपा समर्थक मीडिया का सोशल मीडिया पर भी विरोध हो रहा है।कांग्रेस नेता इमरान प्रतापगढ़ी ने भी इस पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि“उन चैनलों के नाम याद रखियेगा जिनके लिये 8 किसानों की लाशों से ज्यादा वज़नदार 8 ग्राम ड्रग्स है।#किसान_हत्यारी_भाजपा

कई न्यूज़ चैनल किसानों की छवि खराब करने के लिए इस तरह की खबरें छाप रहे हैं कि किसानों के उपद्रव के कारण लखीमपुर खीरी में हिंसा हुई है।


गौरतलब है कि इस वक्त सभी न्यूज़ चैनलों पर फिल्म अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान चर्चा का विषय बने हुए हैं। दरअसल मुंबई में क्रूज़ पर आयोजित एक रेव पार्टी में आर्यन खान समेत कुछ लोगों को हिरासत में लिया गया है।

यहाँ तक कि कई न्यूज़ चैनल टीआरपी बटोरने के लिए इसी मुद्दे पर कवरेज कर रही है।

कई न्यूज़ चैनलों ने इस मामले में डिबेट शो भी चलाएं हैं। जबकि लखीमपुर खीरी में मारे गए किसानों पर कोई चर्चा नहीं की गई।

आपको बता दें कि इस मामले में आरोपी पाए जाने वाले भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री के बेटे आशीष मिश्रा समेत 14 के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। उत्तर प्रदेश पुलिस ने धारा 302, 120बी और अन्य धाराओं में केस दर्ज किया है।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
यूपी सरकार से तंग आ चुके हैं हम, वहां जंगलराज जैसी स्थितिः सुप्रीम कोर्ट
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र