बिजली संकट पर बोले राकेश टिकैत- कोयले की कमी दिखाई जा रही है ताकि प्लांट प्राइवेट कंपनियों को दे सकें

 


उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में किसानों के साथ हुई हिंसा के मामले में लगातार भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता और किसान नेता राकेश टिकैत तक मोदी सरकार के खिलाफ हमलावर हो रहे हैं।

लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा आयोजित मृतक किसानों की श्रद्धांजलि सभा कार्यक्रम में पहुंचे किसान नेता राकेश टिकैत ने हिंसा के आरोपी आशीष मिश्रा के पिता और गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा की गिरफ्तारी की मांग की। गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के इस्तीफा ना दिए जाने पर किसान संगठनों ने आंदोलन शुरू करने की चेतावनी भी दी है।किसान संगठनों का कहना है कि जब तक अजय मिश्रा केंद्रीय गृह राज्य मंत्री पद पर बैठे हैं। तब तक इस मामले में निष्पक्ष जांच हो ही नहीं सकती।इसके साथ ही उन्होंने देश में आई कोयले की कमी का मुद्दा भी उठाया। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार प्राइवेट कंपनियों को अगर बिजली मिलेगी तो जो बिजली का यूनिट इस वक्त 7 रुपए है। वो सीधा 15 रुपए पर चला जाएगा। यह सब जानबूझकर कोयले की कमी दिखा रहे हैं। ताकि प्राइवेट कंपनियों को बिजली दी जा सके। अगर साल 2024 में मोदी सरकार को सत्ता से नहीं हटाया गया तो बहुत परेशानी होने वाली है।

 


इसके साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमलावर होते हुए राकेश टिकैत ने आगे कहा कि किसानों के लिए लाए गए कृषि कानून काले हैं और देश के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी काले हैं। जितना जल्दी यह चले जाएं उतनी ही राहत मिलेगी।

राकेश टिकैत का कहना है कि 1 जनवरी 2022 से सारी तस्वीर साफ हो जाएगी। देखते हैं कि अगले साल कितनी फसलें दोगुने दाम पर बिकने वाली है। इसके साथ ही उन्होंने कृषि कानूनों का विरोध करते हुए कहा कि देश के किसानों के लिए यह कृषि कानून काले ही हैं। हमारी मांग है कि सरकार इन तीनों काले कानून को वापस ले और एमएसपी के दाम तय किए जाएं। नहीं तो यह किसान आंदोलन चलता रहेगा।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
रूस में दो नए काउंसलेट खोलने का ऐलान, मॉस्को में बोले मोदी- भारत का विकास देख दुनिया भी हैरान
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र