प्रियंका गांधी का महिलाओं को संदेश, अपने अधिकारों के लिए एकजुट होना पड़ेगा

 

लखनऊ  : उत्तर प्रदेश की पार्टी प्रभारी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने घोषणा की है कि वह विधानसभा चुनाव में महिला उम्मीदवारों को पार्टी का 40 प्रतिशत टिकट देगी. कांग्रेस का इस चुनाव में नारा ‘लड़की हूं लड़ सकती हूं’ रहेगा.
दरअसल, प्रियंका आज लखनऊ पहुंची और यहां उन्होंने देश भर की महिलाओं को अपने अधिकारों के लिए एकजुट होने की सलाह दी. उन्होंने कहा कि जब कोई महिला अपने अधिकारों की लड़ाई लड़े तो सवाल उठाने की बजाए उसके साथ खड़ा होना चाहिए. हमारी प्रतिज्ञा है कि यूपी की राजनीति में महिलाओं की पूरी भागदारी हो.

प्रियंका से प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान सवाल किया गया कि महिला प्रतिनिधि के नाम पर नेताओं के परिवारों की महिलाओं को लड़ाया जाता है. इसे कैसे रोकेंगी? प्रियंका ने इसके जवाब में कहा, इसमें कोई बुराई नहीं है, लडऩे के बाद ये महिलाएं सक्षम हो जाती हैं.

प्रियंका ने कहा, भारतीय राजनीति के पाठ्यक्रम को बदलने के लिए यह निर्णय लिया गया है. यह उन सभी महिलाओं के लिए है जिन्होंने मुझे प्रेरित किया है. उन्होंने कहा, कि अगर उनका बस चलता तो महिलाओं के लिए 50 प्रतिशत टिकट आरक्षित करतीं.

प्रियंका ने कहा कि यह फैसला सभी महिलाओं के लिए है. लेकिन इस मौके पर उन्होंने कई महिलाओं का नाम लिया. इस मौके पर प्रियंका ने कहा, यह फैसला चंदौली में शहीद सिपाही की बहन वैष्णवी के लिए है. जिन्होंने मुझे कहा कि उनके भाई शहीद हो गए लेकिन वह पायलट बनना चाहती हैं. यह निर्णय उन्नाव की उस लड़की के लिए है जिसे जलाया गया, मारा गया. उसकी भाभी के लिए है जो आज भी संघर्ष कर रही हैं और उनकी 9 साल की बेटी के लिए है जिसे स्कूल में धमकाया गया. यह निर्णय हाथरस की उस मां के लिए है जिसने मुझे गले लगाकर कहा कि उसे न्याय चाहिए. यह निर्णय रमेश कश्यप की बेटी के लिए है जो बड़ी होकर डॉक्टर बनना चाहती है.


 प्रियंका ने आगे कहा कि यह निर्णय उत्तर प्रदेश की हर महिला और बेटी के लिए है.प्रियंका गांधी ने कहा, हम चाहते हैं कि राजनीति में महिलाएं सत्ता में पूर्ण भागीदार बनें. महिला राजनेता राज्य में नफरत की राजनीति को खत्म कर देंगी. प्रियंका ने कहा कि पार्टी का टिकट सिर्फ जाति या धर्म के आधार पर नहीं बल्कि योग्यता के आधार पर दिया जाएगा.

टिप्पणियाँ