मोहन भागवत बोले- नशे के कारोबार से देश विरोधी काम हो रहे हैं, राउत ने पूछा- सरकार किसकी है?

 


आज देश भर में विजयदशमी का त्यौहार मनाया जा रहा है। इसके साथ ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का 96वां स्थापना दिवस भी है।

इसके मौके पर नागपुर में आयोजित एक कार्यक्रम में संघ प्रमुख मोहन भागवत ने एक बार फिर से धर्म के आधार पर लोगों को बांटने वाला बयान दिया है।

उनका कहना है कि कुछ कट्टरपंथी लोग देश में अराजकता का माहौल बना रहे हैं। इसलिए हिंदुओं को संगठित होने की जरूरत है। इसी से सभी समस्याओं का हल निकल सकता है।

इसके साथ ही मोहन भागवत ने युवाओं में बढ़ रही नशे की लत पर भी बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि देश में तरह-तरह के नशीले पदार्थों का इस्तेमाल बढ़ रहा है। इसे कैसे रोका जाए पता नहीं?

उच्च वर्ग से लेकर समाज के आखिरी आदमी तक हर वर्ग का शख्स नशे करने की लत में जा चुका है।

नशे के कारोबार से आने वाले पैसे का इस्तेमाल राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में किया जाता है। जिसे सीमा पार के देशों द्वारा किया जा रहा है।

 


संघ प्रमुख मोहन भागवत द्वारा दिए गए इस बयान पर शिवसेना नेता संजय राउत ने पलटवार किया है।

उनका कहना है कि अगर मोहन भागवत कुछ बोलते हैं। तो उनकी बात का कुछ महत्व होता है।

उन्होंने बयान दिया है कि नशे से कमाए जाने वाले पैसे का इस्तेमाल राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में किया जाता है। तो यह भी बताएं कि सरकार का नेतृत्व कौन कर रहा है?

जब साल 2016 में नोटबंदी की गई थी। तो देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि इससे आतंकवादियों और ड्रग्स माफियाओं को बड़ा झटका लगेगा।

नोटबंदी करने से उन पर नकेल कसी जाएगी। उनके पास कोई पैसा नहीं बचेगा।

लेकिन आज संघ प्रमुख मोहन भागवत तक कह रहे हैं कि भारत में ड्रग्स के पैसे का इस्तेमाल देश विरोधी होने वाली गतिविधियों में किया जा रहा है। तो यह भी बताएं कि इसका क्या महत्व है?

उल्लेखनीय है कि 2016 के अंत में जब मोदी सरकार द्वारा नोटबंदी की गई थी। तो पीएम मोदी ने देश से आतंकवाद, भ्रष्टाचार और कालेधन का खात्मा होने का दावा किया था। लेकिन आज भी यह सब भारत में धड़ल्ले से चल रहा है।



टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
यूपी सरकार से तंग आ चुके हैं हम, वहां जंगलराज जैसी स्थितिः सुप्रीम कोर्ट