कार से कुत्ते नहीं किसान कुचले गए हैं- गलती से नहीं जानबूझकर, फिर भी क्यों चुप है प्रधानमंत्री महोदय? : लेखक

 


भाजपा शासित उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में घटी घटना में मारे गए किसानों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट सामने आ गई है।

जिसमें यह कहा गया है कि किसी भी किसान की मौत गोली लगने की वजह से नहीं हुई है।

इसके बाद किसानों ने इसके विरोध में मारे गए किसान गुरविंदर सिंह का अंतिम संस्कार करने पर रोक लगा दी है।

इस पूरी घटना पर अब तक देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक भी बयान सामने नहीं आया है। जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोशल मीडिया के जरिए देश-विदेश में होने वाले अन्य मुद्दों पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं।इस मामले में लेखक अशोक कुमार पांडेय ने कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए ट्वीट किया है। उन्होंने लिखा है कि

कार से कुत्ते नहीं किसान कुचले गए हैं। ग़लती से नहीं जानबूझकर। हत्यारा अब तक बाहर है। आप मौन व्रत क्यों धारण करके बैठे हैं प्रधानमंत्री महोदय?”

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लखीमपुर खीरी में घटी घटना के बाद आज लखनऊ पहुंचे हैं। उत्तर प्रदेश की धरती पर होने के बावजूद भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों के साथ हुई हिंसा पर कुछ नहीं कहा है।


लखनऊ पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा द्वारा चलाई जा रही योजनाओं का प्रचार प्रसार कर रहे हैं।

यह कहना गलत नहीं होगा कि लखीमपुर में घटी घटना के बाद भाजपा द्वारा जिस तरह से किसानों और विपक्षी नेताओं के साथ सलूक किया गया है। उसे लेकर लोगों में गुस्सा तौर पर दिख रहा है।

सोशल मीडिया पर लखीमपुर घटना मामले में योगी सरकार पर सवाल उठाए जा रहे हैं। ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुप्पी से पार्टी को और ज्यादा नुकसान हो सकता है।

आपको बता दें कि अगले साल उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में किसान संगठनों ने पहले से ही भाजपा के खिलाफ मोर्चा खोला हुआ था।

अब इस घटना के बाद पार्टी की और भी ज्यादा किरकिरी हो रही है। क्योंकि इस हिंसा का मुख्य आरोपी भाजपा नेता का ही बेटा है।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
शिक्षा और चिकित्सा हर किसी को निशुल्क मिले कुल भूषण त्यागी
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
मतदान लोकतंत्र का सबसे बड़ा पर्व है एडवोकेट अरविंद गुप्ता
चित्र
एलआईसी विश्वास और पारिवारिक सुरक्षा ,उज्जवल भविष्य और सम्मान का प्रतीक है प्रशांत वशिष्ठ,
चित्र