आत्मनिर्भर भारत अभियान के दम पर दुनिया की बड़ी सैन्य शक्ति बनेगा भारत: मोदी

 


नई दिल्ली   : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज कहा कि आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत हमारा लक्ष्य भारत को अपने दम पर दुनिया की बड़ी सैन्य ताकत बनाने तथा यहां आधुनिक सैन्य इंडस्ट्री का विकास करने का है।

श्री मोदी ने विजयादशमी के शुभ अवसर पर शुक्रवार को सात नई रक्षा कंपनियों को राष्ट्र को समर्पित करने के लिए रक्षा मंत्रालय द्वारा आयोजित कार्यक्रम को वर्चुअल माध्यम से संबोधित करते हुए यह बात कही। इस अवसर पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह , रक्षा राज्यमंत्री अजय भट्ट और रक्षा उद्योग संघों के प्रतिनिधि भी उपस्थित थे।

प्रधानमंत्री ने कहा , “ आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत देश का लक्ष्य भारत को अपने दम पर दुनिया की बड़ी सैन्य ताकत बनाने का है, भारत में आधुनिक सैन्य इंडस्ट्री के विकास का है।” उन्होंने कहा कि ये सात कंपनियां आने वाले समय में देश की सैन्य शक्ति का मजबूत आधार बनेंगी।


पूर्व राष्ट्रपति ए पी जे अब्दुल कलाम को याद करते हुए उन्होंने कहा कि इन कंपनियों के गठन से मजबूत भारत बनाने का डा कलाम का सपना साकार होगा। उन्होंने कहा,“ आज ही पूर्व राष्ट्रपति, भारतरत्न डॉक्टर ए पी जे अब्दुल कलाम जी की जयंती भी है। कलाम साहब ने जिस तरह अपने जीवन को शक्तिशाली भारत के निर्माण के लिए समर्पित किया, ये हम सभी लिए प्रेरणा है। ”

रक्षा क्षेत्र में सरकार द्वारा किये गये सुधारों का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि इसी का परिणाम है कि रक्षा क्षेत्र में जितनी पारदर्शिता, भरोसा और प्रौद्योगिकी आधारित दृष्टिकोण अब है उतना पहले कभी नहीं रहा। उन्होंने कहा , “ आज़ादी के बाद पहली बार हमारे डिफेंस सेक्टर में इतने बड़े सुधार हो रहे हैं, अटकाने-लटकाने वाली नीतियों की जगह सिंगल विंडो सिस्टम की व्यवस्था की गई है। ”

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
शिक्षा और चिकित्सा हर किसी को निशुल्क मिले कुल भूषण त्यागी
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
मतदान लोकतंत्र का सबसे बड़ा पर्व है एडवोकेट अरविंद गुप्ता
चित्र
एलआईसी विश्वास और पारिवारिक सुरक्षा ,उज्जवल भविष्य और सम्मान का प्रतीक है प्रशांत वशिष्ठ,
चित्र