यूपी विधानसभा में सरकार ने पेश किया अनुपूरक बजट, विपक्ष ने अजय मिश्रा टेनी का मांगा इस्तीफा

 


लखनऊ : उत्तर प्रदेश विधानसभा के शीतकालीन सत्र के दूसरे दिन कार्यवाही शुरु होते ही समाजवादी पार्टी तथा कांग्रेस के सदस्य लखीमपुर खीरी केस की एसआइटी जांच रिपोर्ट पर चर्चा कराने और गृह राज्यमंत्री टेनी को बर्खास्त करने की मांग को लेकर वेल में आकर नारेबाजी हंगामा करने लगे. हंगामे के कारण सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी गई. वहीं हंगामे के बीच ही संसदीय कार्य व वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने द्वितीय अनुपूरक बजट, अगले वित्तीय वर्ष 2022-23 के एक भाग के लिए लेखानुदान पेश किया.

वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने अपने भाषण में जिक्र किया कि 2022-2023 में 5,44,836.56 करोड़ रुपए प्राप्तियां होंगी. इसमें 4,53,097.56 करोड़ रुपए राजस्व, 91,739 करोड़ रुपए की पूंजी लेखे की प्राप्तियां, होंगी. इसमें 89,174 करोड़ रुपए की लोक ऋणों से प्राप्तियां और 2,565 करोड़ रुपए की ऋणों, अग्रिमों की वसूली से होने वाली प्राप्तियां शामिल हैं. राजस्व प्राप्तियों की 4,53,097.56 करोड़ रुपए की राशि में राज्य को कर राजस्व से 2,08,655 करोड़ रुपए, केंद्रीय करों से राज्यांश से 1,26,383.61 करोड़ रुपए, करेतर राजस्व से 23,406.48 करोड़ रुपए और केंद्रीय योजनाओं के लिए भारत सरकार से सहायता अनुदान के रूप में 94,652.47 करोड़ रुपए के अनुमान शामिल हैं.

लोक ऋणों से 89,174 करोड़ रुपए की अनुमानित प्राप्तियों के अंतर्गत भारत सरकार से 2,500 करोड़ रुपए और अन्य स्रोतों से 86,674 करोड़ रुपए के ऋण के अनुमान भी शामिल हैं. वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा कि अंतरिम बजट में कुल 5,45,370.69 करोड़ रुपए का व्यय का अनुमान हैं. जिसमें 4,15,198.95 करोड़ का व्यय राजस्व लेखे और 1,30,174.74 करोड़ रुपए का व्यय पूंजी लेखे का है.

सदन की कार्यवाही के दौरान पेश हुए विधेयक

  • उत्तर प्रदेश मोटरयान कराधान ( संशोधन) अध्यादेश 2021
  • उत्तर प्रदेश माल और सेवा कर ( संशोधन) अध्यादेश 2021
  • अधिवक्ता कल्याण निधि ( संशोधन) अध्यादेश 2021

शीतकालीन सत्र के पहले दिन बुधवार को पूर्व विस अध्यक्ष और विस सदस्य सुखदेव राजभर, सीडीएस बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत समेत शहीद 12 अन्य सैन्य अधिकारियों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई. इसके बाद विधानसभा के शीतकालीन सत्र की कार्यवाही गुरुवार तक स्थगित कर दी गई थी.

टिप्पणियाँ