असीम अरुण और राजेश्वर सिंह के खिलाफ चुनाव आयोग में शिकायत दर्ज,सपा ने भी की कार्रवाई की मांग

 


लखनऊ :कानपूर के पूर्व पुलिस कमिश्नर असीम अरुण (aseem arun) आज भाजपा में शामिल हो गये। उधर असीम अरूण और राजेश्वर सिंह rajeshwar singh के खिलाफ चुनाव आयोग में शिकायत पंजीकृत हो गई है। आयोग ने शिकायत  जल्द निर्णय निर्णय लेने का संकेत दिया है। शिकायत में आचार संहिता के ठीक एक दिन पहले ही वीआरएस लेकर उपरोक्त दोनों अधिकारियों पर पाँच साल तक पार्टी विशेष के हित में काम करने, सेवा में रहते हुए भेदभाव और गोपनीयता का हनन करने का आरोप लगाते हुए इनके चुनाव लड़ने पर रोक लगाने की मांग की गई है।

सपा ने भी की कार्रवाई की मांग

उधर समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने रविवार को कहा कि वह भारत के चुनाव आयोग से उन सभी अधिकारियों को हटाने का अनुरोध करेंगे, जिन्होंने पिछले पांच वर्षों से पूर्व पुलिस अधिकारी असीम अरुण के साथ काम किया है, ऐसा न हो कि वे आगामी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों को प्रभावित करें।

लखनऊ में एक प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए अखिलेश यादव ने कहा- “हम चुनाव आयोग से कहेंगे कि पिछले पांच सालों में आसिम अरुण के साथ काम करने वाले सभी अधिकारियों को हटा दिया जाए वरना वे चुनाव को प्रभावित करेंगे”।

अखिलेश ने अपने दावे पर जोर देते हुए कहा कि अगर इन लोगों को उनके पदों से नहीं हटाया गया तो वे अधिकारियों की आड़ में भाजपा कार्यकर्ता के तौर पर काम करते रहेंगे। सपा प्रमुख ने कहा कि अरुण का भगवा पार्टी में शामिल होना आयोग के सामने एक उदाहरण है।

उन्होंने कहा- “चुनाव आयोग के सामने अब एक उदाहरण है कि एक अधिकारी का किसी पार्टी के साथ कितना संबंध हो सकता है। वह भाजपा के सदस्य थे, दोनों ने बातचीत की होगी, टिकट देने का भी फैसला किया होगा और फिर भी उन्हें आयुक्त बनाया गया था।”

सपा प्रमुख ने आगे कहा कि हम चुनाव आयोग से ऐसे सभी अधिकारियों के खिलाफ मामले की जांच शुरू करने और उनके खिलाफ कार्रवाई करने का आग्रह करेंगे। अखिलेश ने कहा- “अगर चुनाव आयोग उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं करता है, तो उस पर सवाल उठेंगे और हम मानेंगे कि आयोग निष्पक्ष रूप से काम नहीं कर रहा है।”

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
यूपी सरकार से तंग आ चुके हैं हम, वहां जंगलराज जैसी स्थितिः सुप्रीम कोर्ट
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र