राजस्व संग्रह में लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी : रविंद्र

 


हिंदी दैनिक आज का मतदाता प्रदेश के स्टांप पंजीयन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री रविंद्र जायसवाल ने कर संग्रह संबंधित सभी विभागीय कार्यालयों को निर्देश दिए हैं कि कर व करेत्तर राजस्व संग्रह के कार्य में किसी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

महानिरीक्षक निबंधन कंचन वर्मा की ओर से जुलाई 2022 तक के राजस्व संग्रह के आंकड़े जारी कर दिए गए हैं। आंकड़ों के अनुसार स्टांप तथा पंजीयन विभाग ने वर्ष 2022-23 के जुलाई माह में 3197.80 करोड़ रुपए के लक्ष्य के सापेक्ष 2285.42 करोड़ रुपए का संग्रह किया। जोकि लक्ष्य के सापेक्ष 71.47 प्रतिशत रहा। जुलाई 2022-23 की अवधि तक के लिए निर्धारित किए गए वार्षिक क्रमिक लक्ष्य 10528.70 करोड़ रुपयों के सापेक्ष 8362.24 करोड़ रुपयों के राजस्व का संग्रह किया। यह प्राप्ति निर्धारित वार्षिक क्रमिक लक्ष्य के सापेक्ष 79.4 प्रतिशत रही।


इससे पूर्व इसी वर्ष अप्रैल माह में 2158.60 करोड़ रुपए के सापेक्ष 1911.23 करोड़ रुपए का संग्रह किया। जोकि लक्ष्य के सापेक्ष 88.5 प्रतिशत रहा। जबकि मई माह में 2553.50 करोड़ रुपए के लक्ष्य के सापेक्ष 2021.52 करोड़ रुपयों का संग्रह किया गया। जोकि लक्ष्य के सापेक्ष 79.2 प्रतिशत रहा। जून माह में 2618.80 करोड़ रुपए के सापेक्ष 2144.07 करोड़ रुपए का संग्रह किया। जोकि लक्ष्य के सापेक्ष 81.87 प्रतिशत रहा।

वित्तीय वर्ष 2022-23 के संपूर्ण वर्ष के लिए निर्धारित राजस्व संग्रह लक्ष्य के सापेक्ष जुलाई 2022 तक 28.2 प्रतिशत लक्ष्य की प्राप्ति कर ली गई है।

स्टांप पंजीयन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री रविंद्र जायसवाल ने कहा कि राजस्व संग्रह के कार्य को और अधिक सक्रियता से किए जाने की आवश्यकता है। उन्होंने सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि राजस्व संग्रह के कार्य को प्राथमिकता के रूप में करना सुनिश्चित करें।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
रूस में दो नए काउंसलेट खोलने का ऐलान, मॉस्को में बोले मोदी- भारत का विकास देख दुनिया भी हैरान
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र