दिसंबर में 232.10 करोड़ रुपये के चुनावी बॉन्ड बिके, 83 फीसदी दिल्ली में भुनाए गए: आरटीआई

भारतीय स्टेट बैंक से सूचना के अधिकार के तहत प्राप्त जानकारी बताती है कि 5 से 12 दिसंबर 2022 तक संपन्न हुई चुनावी बॉन्ड बिक्री की 24वीं किस्त में 260 चुनावी बॉन्ड की कुल बिक्री में से 114 करोड़ रुपये के बॉन्ड अकेले मुंबई में बेचे गए थे. 2018 में चुनावी बॉन्ड योजना की शुरुआत से लेकर 24वीं किस्त तक एसबीआई ने 11,699.83 करोड़ रुपये के कुल 20,734 चुनावी बॉन्ड बेचे हैं.




नई दिल्ली: सूचना के अधिकार (आरटीआई) के तहत भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) द्वारा शुक्रवार को दिए गए एक जवाब के अनुसार, दिसंबर 2022 की बिक्री विंडो में 232.10 करोड़ रुपये के चुनावी बॉन्ड बेचे गए, जिनमें से लगभग आधे एसबीआई की मुंबई शाखा में बेचे गए और उनमें से 82 फीसदी को नई दिल्ली शाखा में भुनाया गया.

इंडियन एक्सप्रेस द्वारा दायर एक आरटीआई आवेदन के जवाब में एसबीआई ने बिक्री की 24वीं किस्त, जो 5 दिसंबर से 12 दिसंबर 2022 तक संपन्न हुई थी, का डेटा प्रदान किया. 260 चुनावी बॉन्ड की कुल बिक्री में से 114 करोड़ रुपये के बॉन्ड अकेले मुंबई में बेचे गए थे. हैदराबाद और चेन्नई की शाखाओं में क्रमश: 56 करोड़ रुपये और 30 करोड़ रुपये की बॉन्ड बिक्री हुई.

नई दिल्ली और कोलकाता की शाखाओं की बिक्री क्रमश: 16.10 करोड़ रुपये और 16 करोड़ रुपये रही.

जब बात चुनावी बॉन्ड को भुनाने की आई तो राष्ट्रीय राजधानी राजनीतिक दलों के लिए सबसे पसंदीदा रही, 194.10 करोड़ रुपये के बॉन्ड एसबीआई की नई दिल्ली शाखा में भुनाए गए. शेष चुनावी बॉन्ड हैदराबाद (21 करोड़ रुपये) और कोलकाता (17 करोड़ रुपये) में भुनाए गए.

आरटीआई के जवाब में कहा गया है कि 2018 में चुनावी बॉन्ड योजना की शुरुआत से लेकर 24वीं किस्त तक, एसबीआई ने 11,699.83 करोड़ रुपये के कुल 20,734 चुनावी बॉन्ड बेचे हैं.

सबसे ज्यादा बॉन्ड मुंबई में बिके हैं. अब तक यहां 3163.57 करोड़ रुपये के बॉन्ड बिके हैं. इसके बाद कोलकाता (2,408.71 करोड़ रुपये), हैदराबाद (2,030.35 करोड़ रुपये) और नई दिल्ली (1,760.94 करोड़ रुपये) का नंबर आता है.

वहीं, जब बात बॉन्ड भुनाने की आती है तो अब तक भुनाए गए कुल बॉन्ड में से 7,603.33 करोड़ रुपये के बॉन्ड नई दिल्ली में भुनाए गए.

इंडियन एक्सप्रेस को एक अन्य आरटीआई के जवाब में बताया गया था कि गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान एसबीआई द्वारा 11 नवंबर से 15 नवंबर 2022 तक 23वीं किस्त में 676.26 करोड़ रुपये के चुनावी बॉन्ड बेचे गए थे.

बता दें कि केंद्रीय वित्त मंत्रालय ने 7 नवंबर 2022 को ‘राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की विधानसभा के आम चुनावों के वर्ष में’ बॉन्ड की बिक्री के लिए ‘15 दिनों की अतिरिक्त अवधि’ प्रदान करने के लिए चुनावी बॉन्ड योजना-2018 संशोधन किया था.

इससे पहले इस योजना में जनवरी, अप्रैल, जुलाई और अक्टूबर में 10 दिनों की अवधि के साथ-साथ लोकसभा चुनाव के वर्ष में अतिरिक्त 30 दिनों की बिक्री की अनुमति थी. गुजरात चुनाव से पहले 23वें चरण की बिक्री संशोधित योजना के तहत पहली बिक्री थी.

टिप्पणियाँ