सरोज एजुकेशनल के 23 साल बेमिसाल

 




सरोज शिक्षण संस्थान के 23 साल बेमिसाल पर लखनऊ में  सरोज एजुकेशनल ग्रुप का फाउण्डेशन डे “सृजन” कार्यक्रम का आयोजन शुक्रवार 29 मार्च 2023 को संस्थान सरोज इस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एवं मैंनेजमेंट के प्रागण में धूम-धाम से किया गया। कार्यक्रम में स्टेज शो, फैशन, सिंगिंग, स्किट डांस शो, कॉमेडी शो इत्यादि रंगा-रंग कार्यक्रम का केंद्र रहे। कार्यक्रम का शुभारंभ सरोज ग्रुप के महानिदेशक प्रो0 डा0 एम0 ए0 खान ने किया।

इस मौके पर मुख्य अतिथि डा0 एम0ए0 खान ने संबोधित करते हुए कहा कि छात्र-छात्राओं को पढ़ाई के साथ-साथ खेलकूद सांस्कृतिक व अन्य गतिविधियों में भी बढ़ चढ़कर भाग लेना चाहिए। इससे छात्रों का मन व तन दोनों स्वस्थ रहता है। आधुनिक शिक्षा प्रणाली में इस प्रकार की गतिविधियों की अहम भूमिका होती है। इस प्रकार की गतिविधियां बच्चों के अंदर मनोरंजन के साथ-साथ ज्ञान एवं आत्मविश्वास में भी वृद्धि करती है। उन्होंने कहा कि अनुशासन ही शिक्षा की पहली सीढ़ी है। साथ ही छात्र-छात्राओं को प्रेरित करते हुए कहा कि जिंदगी अवसरों का खेल है। जो व्यक्ति साहस के साथ अवसरों का लाभ उठाकर आगे बढता है वही सफलता की बुलंदियों को छूता है। साहस और आत्मविश्वास को विकसित करने के लिए एकाग्रता एवं अनुशासन की आवश्यकता होती है।

इसके अलावा सांस्कृतिक व अन्य कार्यक्रम भी प्रस्तुत किए गए। कार्यक्रम का संचालन संस्थान के छात्र-छात्राओं ने किया। इस मौके पर छात्र-छात्राओं ने स्टेज डांस शो, सोलो डांस, ंिसंगिंग, स्किट डांस, कॉमेडी शो में भाग लिया। इसके अलावा रैंप वॉक का भी आयोजन किया गया साथ ही इस अवसर पर स्पोटर््स एवं सास्कृतिक कार्यक्रमों में प्रथम एवं द्वितीय स्थान पाने वाले छात्र-छात्राओं एवं उनकी टीम को ट्राफी एवं मेडल से पुरुस्कृत किया।

प्रोग्राम के अंत में डायरेक्टर इंजीनियरिंग द्वारा इस प्रोग्राम को  अपने अथक प्रयास से सफल बनाने के लिए सभी छात्र-छात्राओं, शिक्षक एवं कर्मचारी गण को धन्यवाद पेश किया।


टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
रूस में दो नए काउंसलेट खोलने का ऐलान, मॉस्को में बोले मोदी- भारत का विकास देख दुनिया भी हैरान
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र