रूस में दो नए काउंसलेट खोलने का ऐलान, मॉस्को में बोले मोदी- भारत का विकास देख दुनिया भी हैरान

 


पुतिन ने पीएम मोदी को अपने निवास नोवो-ओगारियोवो के आसपास अपनी इलेक्ट्रिक कार में घुमाया। भारत में रूसी दूतावास ने दोनों नेताओं का ड्राइव का आनंद लेते हुए एक वीडियो साझा किया, जिसके बाद दोनों के बीच बातचीत हुई।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रूस यात्रा के दूसरे दिन भारतीय समुदाय को संबोधित किया। मॉस्को हवाईअड्डे पर उतरने पर मोदी को सम्मान दिया गया। बाद में उन्होंने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से मुलाकात की जिन्होंने उनके लिए एक निजी रात्रिभोज की मेजबानी की। पुतिन ने पीएम मोदी की मेजबानी के लिए आभार जताया और कहा कि दोस्त आपका यहां स्वागत है। मैं आपको देखकर वास्तव में खुश हूं। पुतिन ने पीएम मोदी को अपने निवास नोवो-ओगारियोवो के आसपास अपनी इलेक्ट्रिक कार में घुमाया। भारत में रूसी दूतावास ने दोनों नेताओं का ड्राइव का आनंद लेते हुए एक वीडियो साझा किया, जिसके बाद दोनों के बीच बातचीत हुई। 

इसे भी पढ़ें: PM Modi-Putin meeting: रूस अपनी सेना में भर्ती सभी भारतीयों को बर्खास्त करने पर हुआ सहमत

पीएम मोदीने मॉस्को में अपने संबोधन में कहा कि भारत सिर्फ 10 वर्षों में अपने एयरपोर्ट की संख्या को दोगुना कर देता है तो दुनिया कहती है कि भारत सच में बदल रहा है। जब भारत सिर्फ 10 साल में 40,000 किलोमीटर से ज्यादा रेल लाइन का इलेक्ट्रिफिकेशन कर देता है तो दुनिया को भारत की ताकत का अनुभव होता है...आज भारत डिजिटल पेमेंट्स के नए रिकॉर्ड बना रहा है। पीएम मोदी ने रूस में कज़ान और येकातेरिनबर्ग में दो नए वाणिज्य दूतावासों की घोषणा की। इसके साथ ही पीएम मोदी ने रूस में कज़ान और येकातेरिनबर्ग में दो नए वाणिज्य दूतावासों की घोषणा की।

इसे भी पढ़ें: मेरे तो DNA में है चुनौती को चुनौती देना, मॉस्को में भारतीय समुदाय के बीच बोले PM मोदी

पीएम ने कहा कि भारत और रूस के संबंधों के लिए मैं राष्ट्रपति पुतिन की सराहना करूंगा। उन्होंने दो दशकों से भी ज्यादा समय तक इस साझेदारी को मजबूती देने के लिए शानदार काम किया है। पिछले 10 सालों में मैं छठी बार रूस आया हूं और इन सालों में हम एक दूसरे से 17 बार मिले हैं। ये सारी बैठकें विश्वास और आदर को बढ़ाने वाली रही हैं। जब हमारे छात्र संघर्ष के बीच फंसे थे तब राष्ट्रपति पुतिन ने उन्हें भारत पहुंचाने में मदद की थी इसके लिए मैं उनका एक बार फिर आभार व्यक्त करता हूं। आज ग्लोबल इकोनॉमी की वृद्धि में 15% भारत की हिस्सेदारी है। आने वाले समय में इसका और ज्यादा विस्तार होना तय है। वैश्विक गरीबी से लेकर जलवायु परिवर्तन तक हर चुनौती को चुनौती देने में भारत सबसे आगे रहेगा।

टिप्पणियाँ
Popular posts
परमपिता परमेश्वर उन्हें अपने चरणों में स्थान दें, उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व समस्त परिजनों व समाज को इस दुख की घड़ी में उनका वियोग सहने की शक्ति प्रदान करें-व्यापारी सुरक्षा फोरम
चित्र
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा की आपातकाल बैठक में वर्किंग कमेटी की गई भंग सर्वसम्मति से नए अध्यक्ष चुने गए डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव
चित्र
भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति में भी ब्राह्मणों के बलिदान का एक पृथक वर्चस्व रहा है।
चित्र
पीपल, बरगद, पाकड़, गूलर और आम ये पांच तरह के पेड़ धार्मिक रूप से बेहद महत्व
चित्र